तमिलनाडुः बारिश में 79 की मौत

इमेज कॉपीरइट BBC Tamil

दक्षिण भारत के राज्यों तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश से जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. पड़ोसी देश श्रीलंका में भी बारिश का ख़ासा असर हुआ है.

तमिलनाडु में पिछले लगभग एक हफ़्ते से चल रही भारी बारिश से 79 लोग मारे गए हैं. उधर श्रीलंका में भी लगातार बारिश से 80 हज़ार लोग प्रभावित हुए हैं.

राज्य में सेना और वायुसेना को राहत कार्य, खाद्य सामग्री और ज़रूरी चीज़ों के पैकेट लोगों तक पहुंचाने के लिए लगाया गया है.

राष्ट्रीय आपदा राहत बल भी बचाव कार्य में मदद कर रहा है. शहर की अनेक सड़कों पर अब भी पानी भरा हुआ है.

तमिलनाडु में चेन्नई के जनसंपर्क अधिकारी (रक्षा) टी शनमुगम ने बीबीसी हिंदी को बताया, "अकेले सेना ने चेन्नई के निचले इलाके से 882 लोगों को बचाया है. उनमें से 320 लोगों को स्थानीय राहत शिविरों में भेज दिया गया है. लोगों को बचाने के लिए थल सेना और नौसेना ने नावों का प्रयोग किया जबकि वायुसेना ने हैलिकॉप्टर्स से बचावकार्य जारी रखा."

पटरियों पर पानी जमने से सुरक्षा कारणों के मद्देनज़र तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश और कर्नाटक में कई ट्रेनों को या तो रद्द कर दिया गया है या फिर उनका मार्ग बदल दिया गया है

भारी बारिश से आंध्रप्रदेश में 11 लोग मारे गए हैं और नेल्लोर, चित्तूर, कडपा और अनंतपुरम में सैकड़ों किलोमीटर सड़कें बरबाद हो गई हैं.

मुख्यमंत्री चंद्राबाबू नायडू ने स्थिति की समीक्षा की है और प्रभावित इलाकों में खाद्य सामग्री के वितरण की घोषणा की है.

इमेज कॉपीरइट BBC Tamil

करीब 5,000 लोगों को 90 राहत शिविरों में भेज दिया गया है.

आंध्रप्रदेश के आपदा प्रबंधन विभाग के प्रमुख सचिव जेसी शर्मा ने बीबीसी को बताया, "हमने फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए दो हैलिकॉप्टर मंगवाए हैं और नेल्लोर में खाने के पैकेट भी फंसे हुए लोगों के लिए गिराए हैं. लेकिन खराब मौसम के कारण वो लोगों तक नहीं पहुंच पाए. हमें उम्मीद है कि हम कल तक ये पैकेट उन तक पहुंचा पाएंगे. "

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयाललिता ने प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्य के लिए पांच अरब रुपए की राहत राशि की घोषणा की है.

राजधानी चेन्नई में ज्यादातर सड़कें पानी से भर गई हैं. निचले इलाकों में पानी के जमा होने से समस्या और गंभीर हो गई है.

लोगों को बचाने के लिए कई जगहों और सड़कों पर नावों का इस्तेमाल किया जा रहा है. कम से कम 10 हज़ार लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुँचाया गया है.

स्कूल और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है. मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे समुद्र में ना जाएं.

पिछले हफ्ते बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवात से ये भयंकर बारिश शुरू हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार