गीता की घर वापसी सियासी फैसला तो नहीं?

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले महीने की 27 तारीख को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज एक प्रेस कांफ्रेंस में काफी खुश नज़र आ रही थीं. इसका कारण था भारत सरकार की कोशिशों के बाद गीता की भारत वापसी.

सुनने और बोलने से मजबूर गीता पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से 15 साल बाद वापस लौटी थी.

गीता को प्रेस के सामने केंद्रीय सरकार की एक बड़ी उपलब्धि की तरह से पेश किया गया था. बाद में गीता की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक तस्वीर जारी की गयी. वो बहुत ही सुन्दर तस्वीर थी जिसमें दोनों खुश नज़र आ रहे थे.

इमेज कॉपीरइट MEA INDIA

लेकिन क्या ये जश्न और ये खुशियाँ समय से पहले मनाई गईं?

सरकार का अपना पीठ थपथपाना शायद इसलिए समय से पहले मनाई जाने वाली ख़ुशी इसीलिए लगा क्योंकि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप की उस घोषणा के बाद ये ख़बर आई कि गीता का डीएनए बिहार के जनार्दन महतो से मेल नहीं खाया.

आल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज़ ने गीता के डीएनए सैंपल की जांच की थी.

विकास स्वरुप के अनुसार गीता को बेटी कहने वाले दावेदार और भी हैं जिनके डीएनए सैंपल को गीता के डीेएनए से मिलाने की कोशिश की जा रही है.

गीता इस समय मध्य प्रदेश के एक निजी संस्थान के आश्रम में रह रही हैं जहाँ विदेश मंत्री उनसे सोमवार को मिलने जाएंगी.

इस डीएनए टेस्ट के मेल ना खाने के बाद अब सवाल ये उठता है कि गीता के पिता और परिवार कौन हैं?

इमेज कॉपीरइट AFP

लेकिन इससे भी अहम सवाल ये है कि गीता को भारत वापस लाने की इतनी जल्दी क्या थी?

वो कराची में चैरिटी फाउंडेशन इधी के वहाँ मज़े से रह रही थी जहाँ अपनी उम्र की लड़कियों के साथ उसका दिल लगा हुआ था. वहां गीता अपने धार्मिक कार्य भी कर रही थी. उसे किसी चीज़ की कमी नहीं थी.

गीता को अपने परिवार की तलाश है. उसे उसके परिवार से मिलाना एक सराहनीय कोशिश है जिसके लिए भारत सरकार की प्रशंसा भी की गई. क्या गीता की घर वापसी में सरकार ने जल्दबाज़ी दिखाई है?

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्या ये संभव नहीं था कि पहले उसके पिता होने के दावेदारों के डीएनए सैंपल को कराची भेजकर गीता के डीएनए सैंपल से मिलाया जाता? इधी फॉउन्डेशन ने गीता को भारत वापस भेजने में कोई कमी नहीं दिखाई. अगर गीता को कुछ और समय तक वहां रहने दिया जाता तो क्या फर्क पड़ता.

ये सच है कि एक तस्वीर देख कर गीता ने महतो परिवार को अपने परिवार के तौर पर पहचाना था, लेकिन डीएनए टेस्ट के बग़ैर उसे बिहार के इस परिवार के हवाले नहीं किया जा सकता था.

अब ऐसा महसूस होने लगा है कि कहीं उसकी घर वापसी की कोशिश एक सियासी फैसला तो नहीं था?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार