आसियान इकोनॉमिक कम्युनिटी का गठन

asean summit इमेज कॉपीरइट AFP

मलेशिया के प्रधानमंत्री नाजिब रज़ाक ने रविवार को आसियान इकोनोमिक कम्युनिटी (एईसी) के गठन की औपचारिक घोषणा की.

कुआलालंपुर में आयोजित दसवें आसियान सम्मेलन में यह घोषणा की गई. एईसी अगले वर्ष प्रभाव में आएगा और इसका मकसद आसियान के दस सदस्य देशों के बीच सहयोग को अगले दौर में ले जाना है.

इसके तहत आसियान को मुक्त व्यापार क्षेत्र बनाया जाएगा जिससे आगे चलकर श्रमिकों के बेरोकटोक एकदूसरे देश में जाने का मार्ग प्रशस्त होगा.

हालांकि बीबीसी संवाददाता जोनाथन हैड का कहना है कि एईसी के लागू होने से कोई ख़ास फ़र्क़ पड़ने वाला नहीं है.

इस बीच भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि 'आतंकवाद' अब किसी क्षेत्र विशेष तक सीमित नहीं रह गया है बल्कि पूरी दुनिया में फैल गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने कहा, "अक्सर इस मंच पर हम सोचते हैं कि आतंकवाद हमारे आसपास की समस्या है लेकिन पेरिस, अंकारा, बेरूत, माली और रूसी विमान पर हुए हमलों से स्पष्ट है कि आतंकवाद की परछाई ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है."

मोदी ने कहा, "आतंकवाद से लड़ने के लिए हमें नए संकल्प और नई नीति के साथ आगे बढ़ना होगा. किसी भी देश को आतंकवाद का इस्तेमाल या समर्थन नहीं करना चाहिए. आतंकी गुटों के बीच कोई भेद नहीं होना चाहिए. उनके लिए कोई पनाहगाह नहीं होनी चाहिए. उन्हें कहीं से मदद नहीं मिलनी चाहिए. उनकी पहुंच हथियारों तक नहीं होनी चाहिए."

उन्होंने उम्मीद जताई कि जिस तरह भारत और बांग्लादेश ने शांतिपूर्ण तरीके से सीमा विवाद का समाधान किया उसी तरह दक्षिण चीन सागर मामले का भी सर्वसम्मति से हल निकाला जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार