जासूसी रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

दिल्ली पुलिस ने बीएसएफ के एक सेवारत जवान समेत दो लोगों को गिरफ़्तार कर जासूसी के एक कथित रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा किया है.

जॉइंट पुलिस कमिश्नर (क्राइम) रवींद्र यादव ने बीबीसी संवाददाता संदीप सोनी से बातचीत में इन गिरफ़्तारियों की पुष्टि की है, जो जम्मू में हुईं.

यादव ने बताया कि उन्हें कुछ दिनों से जानकारी मिल रही थी कि कुछ लोग पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी को ऐसी जानकारी दे रहे हैं जो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा हो सकती है.

उन्होंने बताया कि गिरफ़्तार लोगों में 44 वर्षीय राजौरी निवासी कफ़ैतुल्लाह ख़ान और बीएसएफ हेड कॉन्स्टेबल अब्दुल रशीद शामिल हैं.

यादव के मुताबिक रशीद राजौरी में असिस्टेंट लाइब्रेरियन के तौर पर कार्यरत है और कथित तौर पर बीएसएफ हेड कॉन्स्टेबल रशीद से दस्तावेज लेकर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को दिया करता था.

पुलिस का दावा है कि ख़ान जम्मू रेलवे स्टेशन से भोपाल जाने वाली ट्रेन पर सवार होने वाला था कि उसे गिरफ़्तार कर लिया गया और उसके पास से संवेदनशील दस्तावेज भी बरामद किए गए.

यादव ने बताया कि दोनों लोगों को दिल्ली लाया जा रहा है जहां उनसे पूछताछ होगी.

फिलहाल गिरफ्तार लोगों या पाकिस्तान की ओर से इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)