चेन्नई: उड़ानें रद्द, और अधिक बारिश की आशंका

चेन्नई में बारिश इमेज कॉपीरइट Getty

भारी बारिश से पैदा हालात से निपटने के लिए चेन्नई में सेना, नौसेना और राष्ट्रीय आपदा बल की टीमों को तलब किया गया है.

बारिश के कारण शहर में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं जिनसे आम जनजीवन बेहद प्रभावित हुआ है.

मौसम विभाग का कहना है कि अगले 48 घंटे के दौरान तमिलनाडु में भारी बारिश होने की संभावना है.

प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीटर पर जानकारी दी है कि प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्री जयललिता से इस बारे में बात करके हर संभव मदद का आश्वासन दिया है.

मौसम विभाग के निदेशक बीपी यादव के मुताबिक़ तमिलनाडु में अगले 48 घंटे के दौरान मौसम ख़राब रहने की आशंका है.

उनका कहना है कि लोगों को भारी बारिश की चेतावनी दी गई है. हवा की रफ़्तार ज़्यादा नहीं है इससे कोई दूसरा नुक़सान नहीं होगा लेकिन कच्चे मकानों में रहने वाले लोगों को एहतियात बरतने की ज़रुरत है.

48 घंटे से लगातार हो रही बारिश ने लोगों की मुश्किलें बहुत बढ़ा दी है.

अधिकारियों का कहना है कि शहर के एयरपोर्ट को मंगलवार शाम से बंद कर दिया गया है क्योंकि पानी एयरफ़ील्ड तक जा पहुंचा है.

इस वजह से कई उड़ानों को रद्द करना पड़ा है. इंडिगो एयरलाइंस ने ट्वीट किया है, "भारी बारिश के कारण चेन्नई आने-जाने वाली उड़ानें प्रभावित हुई हैं. शहर को अन्य शहरों से जोड़ने वाली उड़ानें रद्द कर दी गई हैं."

वहीं कई ट्रेनें भी रद्द की गई हैं जबकि बस सेवा में भी बाधाएं आ रही हैं.

शहर के एक निवासी अशोक मोदी ने बीबीसी हिंदी से कहा, "हमने 25-30 साल पहले ऐसी बारिश देखी थी जब लगभग एक हफ़्ते तक बिजली नहीं आई थी. सोमवार रात से ही बारिश हो रही है और कोई राहत नहीं है. सब जगह दो से तीन फुट पानी भरा हुआ है."

अशोक मोदी कहते हैं कि ब्रिटीश के जमाने में जो सड़कें बनी थी उसके बाद सड़कें बनाई नहीं गई है. ड्रेनेज सिस्टम भी दुरस्त नहीं है. लगता है सरकार सोई हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि बिजली कटी हुई है ताकि कोई अप्रिय घटना न हो. कई इलाक़ों से दफ़्तरों और घरों में पानी घुसने की ख़बरें भी हैं.

रिपोटों के अनुसार बारिश के कारण 56 लोगों की मौत हो गई है जिनमें 16 चेन्नई से हैं.

एक सामाजिक कार्यकर्ता जी रामा राव ने कहा, "अगर जलाशयों से पानी नहीं निकाला जाता तो शहर में संकट पैदा हो जाएगा."

शहर के एक अन्य निवासी के नीकलांत ने कहा, "पिछले साल हुई बारिश के मुक़ाबले इस बारिश की तीव्रता कम है. लेकिन बारिश का लगातार होना चिंता की बात है."

शिक्षा विभाग ने शहर के स्कूल और कॉलेजों को बंद कर दिया है जबकि 7 दिसंबर से होने वाली अर्धवार्षिक परीक्षाओं को अब जनवरी में कराने का फ़ैसला किया गया है.

नवंबर में भारी बारिश के कारण शैक्षणिक संस्थान तीन हफ़्तों तक बंद रहे थे.

मौजूदा बारिश से पहले दो चरणों में हुई भारी बारिश में 169 लोग मारे गए थे. केंद्र ने बारिश से पैदा हालात से निपटने के लिए तमिलनाडु सरकार को 939 करोड़ की तत्काल राहत दी है जबकि राज्य सरकार ने दो हज़ार करोड़ रुपए के राहत पैकेज की मांग की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार