एमपी: ऑपरेशन से आंखों की रोशनी जाने का ख़तरा

मोतियाबिंद ऑपरेशन इमेज कॉपीरइट AP

मध्यप्रदेश के बड़वानी में सरकारी शिविर में हुए मोतियाबिंद के ऑपरेशन की वजह से कई लोगों की आखों की रोशनी जाने का ख़तरा पैदा हो गया है.

आंखों की रोशनी वापस लाने के लिए इंदौर के दो अस्पतालों में किया इनका इलाज किया जा रहा. अभी तक कुल 43 लोग अस्पताल पहुंच चुके हैं.

इस शिविर में कुल 70 मरीज़ों का ऑपरेशन किया गया था. डॉक्टर अभी ये कहने की स्थिति में नहीं है कि जिनकी आंखों की रोशनी ऑपरेशन के बाद चली गई है वह वापस आ पाएगी या नहीं.

इमेज कॉपीरइट EPA

इंदौर डिविज़न के संयुक्त स्वास्थ्य संचालक डॉ. शरद पंडित ने बीबीसी को बताया, “ये शिविर 16-25 नवंबर तक बड़वानी में लगाया गया था. पहले हमें 1-2 केस में संक्रमण की बात बताई गई थी. उसके बाद रिपोर्ट में 2-3 केस की बात की गई और फिर हमें 10 केस और भेजे गए है. उसके बाद कई और लोगों को इंदौर के दो अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.”

डाक्टरों की एक टीम ने बड़वानी में शिविर में उस जगह का निरीक्षण किया जहां ये ऑपरेशन किए गए थे.

प्रांरभिक जांच में ऑपरेशन में कई कमियां पाई गईं जिसके बाद सरकार ने इस मामले में इलाज करने वाले डाक्टरों सहित 6 लोगों को संस्पेड कर दिया है.

डॉ. शरद पंडित ने बताया, “यहां पर हमें कई कमियां नज़र आई हैं जिसकी वजह से लोगों की आखों में संक्रमण फैला होगा और यह स्थिति पैदा हुई. कारणों का पूरा पता जांच पूरी होने के बाद ही चलेगा.”

उनका कहना है कि दो-तीन दिन में स्थिति स्पष्ट हो पाएगी. प्रभावित मरीज़ों का इलाज सरकार मुफ्त करवा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार