मोदी के लिए बिजलीकर्मियों के 'करतब'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 दिसंबर को जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ अपने संसदीय क्षेत्र बनारस जाएंगे.

मोदी के आगमन को लेकर बनारस को ख़ूब चमकाया जा रहा है. इसी कड़ी में शहर की बिजली के तारों की भी सफ़ाई हो रही है. लेकिन एक अलग और बेहतर ख़तरनाक़ अंदाज़ में.

आग की मशालों से तारों पर लगे मांझे को हटाया जा रहा है. बिजलीकर्मी किसी करतबबाज़ की तरह खंभों पर चढ़े नज़र आ रहे हैं.

सफ़ाई के काम में जुटे जितेंद्र ने बीबीसी को बताया कि पहली बार इस तरह सफ़ाई की जा रही है.

उन्होंने बताया कि आग से पतंगबाज़ी में इस्तेमाल होने वाले चीनी मांझे को हटाया जा रहा है. उनके मुताबिक़ पहले पारंपरिक मांझे गलकर गिर जाया करते थे, लेकिन चीनी मांझे में प्लास्टिक होती है इस कारण वो स्वतः नष्ट नहीं होता.

उन्होंने बताया कि बारिश और कोहरे में मांझे पर लगे लोहे के कण नमी पैदा करते हैं जिससे फीडर में फॉल्ट होने का ख़तरा भी रहता है.

इलाक़े के लोगों को इस सफ़ाई अभियान से ख़ासी परेशानी हो रही है. एक स्थानीय नागरिक ने बताया कि सफ़ाई के नाम पर सप्ताह भर से बिजली कटौती की जा रही है.

कुछ राहगीरों ने इससे ख़तरे का भी इज़हार किया.

मंडलीय अस्पताल के चर्म रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मुकुंद श्रीवास्तव ने बीबीसी को बताया बिजली के हाइटेंशन तारों पर पड़ने से मांझा झटका भी दे सकता है. साथ ही इससे एलर्जी भी हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)