पीएमओ से शत प्रतिशत सियासी प्रतिशोध: राहुल

इमेज कॉपीरइट EPA

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री कार्यालय पर 'राजनीतिक बदले की भावना' से काम करने का आरोप लगाया है.

ये बात उन्होंने नेशनल हेरल्ड मामले में बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में कही.

राहुल और उनकी मां कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस मामले में 19 दिसंबर को दिल्ली की एक अदालत में पेश होना है.

उन्होने कहा, "प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से शत प्रतिशत राजनीतिक प्रतिशोध है."

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि उन्हें न्यायापालिका में पूरा भरोसा है.

केंद्र सरकार कह चुकी है कि उसका इस मामले से कोई लेना देना नहीं है.

केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने कहा, "अगर राहुल गांधी में साहस है, तो वह संसद में आएं और अपने आरोपों के समर्थन में सबूत दें."

इमेज कॉपीरइट PTI

इस मामले में याचिका दायर करने वाले भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप है कि अख़बार नेशनल हेरल्ड का प्रकाशन करने वाली कंपनी एसोसिएटेड जर्नल की संपत्ति लेने के लिए कांग्रेस ने 90 करोड़ रुपए बतौर ऋण दिए थे, जो ग़ैरक़ानूनी है.

उनका कहना है कि नेशनल हेरल्ड अख़बार बंद होने के बाद कंपनी की संपत्ति पर ग़ैरक़ानूनी तरीक़े से क़ब्ज़ा किया गया और यंग इंडिया नाम की एक कंपनी बनाई गई.

इस मामले में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, सैम पित्रोदा, मोतीलाल वोरा और सुमन दुबे सहित छह लोगों को उन्होंने अपनी याचिका में अभियुक्त बनाया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार