'अमीरों की प्रॉपर्टी तो कभी गिराई नहीं जाती'

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

दिल्ली में रेल की पटरियों के पास से 500 झुग्गियों को हटाने के मुद्दे पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्र सरकार फिर आमने-सामने हैं.

केजरीवाल ने शनिवार को ट्वीट किया, "इतनी सर्दी में आज रेलवे वालों ने 500 झुग्गियाँ तोड़ दीं. एक बच्चे की मौत हो गई. भगवान उन्हें कभी माफ़ नहीं करेगा."

केजरीवाल के मुताबिक़ उन्होंने इस बारे में रेल मंत्री सुरेश प्रभु से बात की, लेकिन उन्हें भी इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी.

केजरीवाल ने ट्वीट किया, "दिल्ली में कुछ अमीर लोगों और नेताओं की प्रॉपर्टी को गिराने के न्यायिक आदेश दिए गए हैं. लेकिन उन आदेशों पर कभी अमल नहीं होता."

वहीं समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार रेलवे का कहना है कि पश्चिमी दिल्ली के शकूर बस्ती इलाक़े में हुई इस कार्रवाई से पहले तीन बार नोटिस दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट twitter

रेलवे का ये भी कहना है कि छह महीने के बच्चे की मौत झुग्गियों को हटाए जाने से दो घंटे पहले ही हो गई थी.

पुलिस का कहना है कि संभवतः बच्चे की मौत उस वक़्त कपड़े के ढेर के नीचे दबने से हुई, जब उसके माता पिता झुग्गी से हटने की तैयारी में जुटे थे.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने प्रभावित लोगों को राहत मुहैया न कराने पर दो एसडीएम और एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी समेत तीन अफसरों को निलंबित कर दिया है.

केजरीवाल ने शनिवार को घटनास्थल का दौरा किया और ऐसे समय में झुग्गियों को हटाने के लिए रेलवे की आलोचना की जब सर्दी तेज़ी बढ़ रही है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

पीटीआई के अनुसार पत्रकारों से बातचीत में कहा, "एक बच्चा यहां मर गया. बड़े दुख की बात है और मुझे लगता है कि अधिकारियों के ख़िलाफ हत्या का मामला दर्ज होना चाहिए. उनसे मुआवज़ा लिया जाएगा. जिन लोगों ने ये कार्रवाई की है, उनके वेतन से मुआवज़ा काटा जाएगा."

इस मुद्दे पर सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी ने ट्वीट किया, "कैसे अधिकारी बेतुकी तोड़फोड़ कर सकते हैं जिससे एक बच्चे की मौत हो गई, झुग्गियों में रहने वाले परेशान हो रहे हैं, सर्दी में उनके सिर पर छत नहीं है."

लेकिन दिल्ली डिविजनल रेलवे मैनेजर अरुण अरोड़ा का कहना है कि बच्चे की मौत का अतिक्रमण हटाने से कोई संबंध नहीं है.

उनके मुताबिक़ ये अतिक्रमण ट्रेनों की आवाजाही के लिए जोखिम बनता जा रहा है क्योंकि ये झुग्गियां 15 मीटर के सुरक्षित ज़ोन के दायरे में पड़ती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)