मोदी का एजेंडा 'विपक्ष मुक्त भारत': आज़ाद

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'नेशनल हेरल्ड घोटाला' मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी की आज अदालत में पेशी से पहले दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय के बाहर बड़ी संख्या में समर्थक जुटे हैं.

बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद कांग्रेस मुख्यालय पर मौजूद हैं उनके मुताबिक कांग्रेस समर्थकों के हाथों में पोस्टर और बैनर हैं और वे नारेबाज़ी कर रहे हैं.

उधर, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कहा, "हमें भारत के संविधान और न्यायिक व्यवस्था पर पूरा भरोसा है. भारत के क़ानून पर भरोसा है और हमें इंसाफ़ मिलेगा."

गुलाम नबी आज़ाद और मल्लिकार्जुन खड़गे ने साफ़ किया कि पार्टी क़ानून के मुताबिक ही इस मामले में क़दम उठा रही है और जैसा कोर्ट का निर्देश होगा, वही किया जाएगा

इमेज कॉपीरइट AFP

सोनिया और राहुल गांधी दोपहर तीन बजे पटियाला हाउस कोर्ट पहुंचेंगे.

उधर गुलाम नबी आज़ाद ने ये भी कहा कि चुनाव से पहले मोदी 'कांग्रेस मुक्त भारत' बनाने की बात कर रहे थे लेकिन सरकार बनाने का बाद उनका एजेंडा बदल गया है वे 'विपक्ष मुक्त भारत' चाहते हैं.

कांग्रेस नेताओं की पेशी के लिए पटियाला हाउस कोर्ट में सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं.

कम से कम 700 पुलिस और सीमा सुरक्षा बल के जवान अदालत के आस पास तैनात किए गए हैं.

अदालत के अहाते में 12 अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं.

कांग्रेस पार्टी के मुख्यालय 24 अकबर रोड में सभी वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं को दोपहर एक बजे बुलाया गया है.

लेकिन सुबह से ही आम कांग्रेसी कार्यकर्ता मुख्यालय के सामने जमा होना शुरू हो गए हैं. पार्टी का कहना है कि वो कार्यकर्ताओं को आने से रोक नहीं सकती है.

कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के कारण अकबर रोड और उसके आस पास ट्रैफिक जाम लगता जा रहा है.

कहा जा रहा है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी अदालत में पेश होने के बाद पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करेंगे.

सोनिया और राहुल गांधी के वकील अभिषेक सिंघवी ने कहा कि दोनों नेता पद यात्रा करके अदालत नहीं आएंगे.

सिंघवी के मुताबिक वो इसे सियासी अखाडा नहीं बनाना चाहते. वो अदालत में किसी शोर शराबे के बग़ैर हाज़िर होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार