मेरी ही पार्टी के नेताओं ने की साज़िश: जोगी

अजित जोगी, कांग्रेस नेता इमेज कॉपीरइट Alok Putul

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता अजित जोगी ने अपनी ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज करने की चेतावनी दी है.

अंतागढ़ विधानसभा उप चुनाव के दौरान कांग्रेस उम्मीदवार के मैदान छोड़ने के लिये कथित तौर पर ‘लेनदेन’ करने के आरोप से उठे विवाद पर वे बोल रहे थे.

एक टेप में जोगी पर यह आरोप लगाया गया है कि उन्होंने मुख्यमंत्री रमन सिंह के रिश्तेदारों से पैसे लेकर कांग्रेस उम्मीदवार को मैदान से हटा लिया था.

अजित जोगी ने इस बारे में पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक चिट्ठी भी लिखी है.

अजित जोगी ने पार्टी के सात विधायकों की मौजूदगी में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि कथित टेप को बिना जांचे सही बता कर बघेल ने उन्हें बदनाम करने की कोशिश की.

जोगी का कहना है कि प्रदेश कांग्रेस के कुछ नेताओं ने दिल्ली के कुछ बड़े नेताओं के साथ मिल कर उनके ख़िलाफ़ साजिश रची है.

अजित जोगी ने बीबीसी से कहा, "भूपेश बघेल ने मेरी अवमानना की है, मेरी छवि को नुक़सान पहुंचाया है, ऑडियो कैसेट से छेड़छाड़ करके मुझे बदनाम करने की कोशिश की है, उस मामले में मैंने सोनिया गांधी को पत्र लिखा है."

इससे पहले अजित जोगी के बेटे और विधायक अमित जोगी ने भूपेश बघेल का नाम लिए बग़ैर कहा था कि किसी ‘बी बी’ के नाम से ब्लैकमेल करने की कोशिश की गई थी.

उन्होंने इस मामले में पुलिस में भी शिकायत दर्ज़ करने का दावा किया है.

13 सितंबर 2014 को बस्तर के अंतागढ़ विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव हुआ था, जिसमें 13 उम्मीदवार मैदान में थे. लेकिन चुनाव से ऐन पहले कांग्रेस उम्मीदवार मंतूराम पवार ने अपना नामांकन वापस ले लिया था.

हालत यह हो गई कि नामांकन वापसी के अंतिम दिन भाजपा ने निर्विरोध चुनाव जीतने की कोशिशें शुरू कर दी थी. एक-एक कर 10 उम्मीदवार चुनाव मैदान से हट गए थे.

इस सीट पर भाजपा के अलावा अंबेडकराइट पार्टी ऑफ़ इंडिया के रूपधर पुड़ो ही मैदान में थे. पुड़ो चुनाव हार गए और भाजपा के भोजराज नाग 50 हज़ार से भी अधिक मतों से जीत गए थे.

पिछले बुधवार को इसी चुनाव से संबंधित कथित बातचीत के टेप सार्वजनिक किए गए थे. .

इस टेप में कथित रुप से मुख्यमंत्री रमन सिंह के करीबी रिश्तेदार, पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी, उनके बेटे अमित जोगी, विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस से अपनी उम्मीदवारी वापस लेने वाले मंतूराम पवार के बीच कई करोड़ के कथित लेनदेन की बात है.

इस कथित ‘लेनदेन’ का टेप सामने आने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने किसी भी जांच से इंकार करते हुए कहा था कि यह कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी मामला है.

इसके बाद केंद्रीय चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव को पत्र लिख कर पूरे मामले की जांच रिपोर्ट 7 जनवरी तक देने को कहा है.

इस मामले में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए कहा है कि इस मामले में मुख्यमंत्री के खिलाफ़ आरोप हैं. ऐसे में उनके अधीनस्थ काम करने वाले मुख्य सचिव निरपेक्ष जांच नहीं कर सकते.

इसके अलावा कांग्रेस पार्टी की छत्तीसगढ़ इकाई ने अमित जोगी को एक नोटिस भेज कर सात दिनों के भीतर स्थिति साफ़ करने को कहा है. साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी को भी एक पत्र भेज कर पूरे मामले पर उनकी सफाई मांगी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार