पठानकोट: कुल सात सुरक्षाकर्मियों की मौत

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर शनिवार को हुए हमले और रविवार को तलाशी अभियान के दौरान धमाके में कुल सात जवानों के मारे जाने की ख़बर है.

इस हमले में चार चरमपंथी भी मारे गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

समाचार एजेंसी रॉयटर्स और एसोसिएटेड प्रेस ने इसकी पुष्टि की है.

पठानकोट में एयरबेस के पास मौजूद बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव ने बताया है कि एयरबेस के सामने लोगों का हुजूम इकट्ठा है, लोग पाकिस्तान के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी कर रहे हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ पठानकोट एयरबेस में तलाशी अभियान के दौरान एनएसजी के लेफ़्टिनेंट कर्नल निरंजन की आईईडी धमाके में मौत हो गई.

इससे पहले पीटीआई ने रक्षा सूत्रों के हवाले से कहा था कि तलाशी अभियान के दौरान एनएसजी के तीन जवान घायल हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव ने पठानकोट से जानकारी दी है कि कि शनिवार के हमले के बाद इलाक़े में अब भी तलाशी अभियान जारी है. आसमान में कई लड़ाकू हैलीकॉप्टर मंडरा रहे हैं.

हालांकि पुलिस, सेना या एयरफ़ोर्स के अधिकारी अभी ताज़ा अभियान के बारे में जानकारी नहीं दे रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

उधर, एयरबेस से कुछ दूर शहर में रविवार को सन्नाटा पसरा है.

कुछ हमलावरों ने शनिवार तड़के पठानकोट एयरबेस पर हमला किया था. सुरक्षाबलों की दिन भर चली कार्रवाई में चार हमलावर मारे गए थे. इस दौरान तीन सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई थी.

हर 200 मीटर पर एक चेक पोस्ट बना था जिस पर सुरक्षाबलों के जवान तैनात थे. वे हर वाहन चेक कर रहे थे. सबके पहचान पत्र चेक किए जा रहे थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

कम से कम 11 चेकपोस्ट पार करके हम एयरबेस के क़रीब पहुंचे.

वहां तो स्थिति यह थी कि अगर आप तीन किलोमीटर दूर भी गाड़ी रोक लें तो सुरक्षाकर्मी तुरंत हरकत में आ जाते और आसमान में गश्त कर रहे एमआई-35 हेलीकॉप्टरों की सर्चलाइट भी आप पर पड़ती.

इमेज कॉपीरइट AP

एक तरह से शूट एट साइट ऑर्डर थे. वहां पर आप ज़्यादा देर रुक नहीं सकते थे. सारे लोग अपने घरों में दुबके थे. एक भी शख्स सड़क पर नहीं दिख रहा था.

रात क़रीब 12 बजे तक यहां सुरक्षाबलों के जवान, वाहन और हथियारों की आवाजाही होती रही.

मध्य रात्रि तक एमआई-35 हेलीकॉप्टर आसमान में गश्त करते रहे. पठानकोट एयरबेस वायुसेना के लिए बेहद अहम है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पठानकोट हिमाचल, पंजाब और जम्मू-कश्मीर की सीमा पर है. यहां के एयरबेस में मिग-21 लड़ाकू विमानों और एमआई-35 लड़ाकू हेलीकॉप्टरों को रखा जाता है.

हालांकि मारे गए हमलावरों की संख्या को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ सेना के उच्च पदस्थ सूत्रों का कहना है कि इस अभियान में चार हमलावर मारे गए हैं.

लेकिन गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर पांच हमलावरों के मारे जाने की बात कही थी. बाद में उनके ट्वीट को हटा दिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार