'कहते थे कि बच्चों के बच्चे खिलाऊंगा...'

फ़तेह सिंह इमेज कॉपीरइट NRAI

पंजाब के पठानकोट में एयरबेस पर हुए हमले में मारे गए सुरक्षाकर्मियों में चैंपियन शूटर सूबेदार मेजर फ़तेह सिंह शामिल हैं.

फ़तेह सिंह गुरदासपुर के गांव झंडा गुजरां के रहने वाले थे. फ़तेह सिंह के परिवार को उनकी मौत का ग़म तो है लेकिन इस बात का फ़ख्र भी है कि उन्होंने जो कहा वो किया.

पत्नी शोभारानी ने बीबीसी को बताया कि फतेह सिंह कहा करते थे, "जब भी लड़ाई होगी, आगे ही रहूंगा, पीछे नहीं रहूंगा. देश के लिए कुरबान हो जाऊं तो चिंता नहीं करना."

फतेह सिंह पठानकोट एयरबेस पर तैनात थे. शनिवार को एयरबेस पर हुए चरमपंथी हमले में मारे गए 7 सुरक्षाकर्मियों में वो भी शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

गुरदासपुर ज़िले में बसा उनका गांव झंडा गुजरां पठानकोट से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर है.

एयरबेस पर हुए हमले की ख़बर गांव में शनिवार सुबह ही पहुंच गई थी.

फतेह सिंह के रिश्तेदार तरसेन सिंह बताते हैं, "हमें पता चला कि वहां फायरिंग हो रही है. हमने ये सोचा कि हमारा भी आदमी वहां पर है. 10 बजे पता चला कि फ़तेह साहब नहीं रहे."

भाई सुरजीत सिंह याद करते हैं कि फ़तेह सिंह हमेशा सेना की बात करते थे. गांव के बच्चों को भी फौज़ से जुड़ने के लिए कहते थे.

सुरजीत सिंह कहते हैं, "वो सारी उम्र बाहर ही नौकरी करते रहे. घर वो कभी-कभी आते थे. जब भी गांव आते थे तो मेरे छोटे लड़के को बताते थे तुम भी फौज में भर्ती होना. मैं कराऊंगा तुम्हें फौज में भर्ती."

इमेज कॉपीरइट AP

फतेह सिंह को उनका गांव एक चैंपियन शूटर के तौर पर भी याद करता है. उन्होंने 1995 में दिल्ली में हुई राष्ट्रमंडल निशानेबाज़ी प्रतियोगिता के 300 मीटर बिग बोर टीम स्पर्धा में गोल्ड और व्यक्तिगत स्पर्धा में रजत जीता था.

लेकिन उनके कुछ सपने अधूरे रह गए. फतेह सिंह के भाई सुरजीत सिंह याद करते हैं कि उन्होंने हाल में गांव में घर बनाया था. वो इस घर में खुशियों की महफिल सजी देखना चाहते थे.

सुरजीत सिंह ने बताया, "वो बोलते थे जब मैं बेटी की शादी करूंगा यहीं पर करूंगा."

इमेज कॉपीरइट AFP

उनकी पत्नी शोभारानी भी ऐसे ही कुछ सपनों को याद करती हैं.

वो कहती हैं, "उन्होंने बच्चों की शादी करने के लिए बोला था. वो कहते थे कि बच्चों के बच्चे खिलाऊंगा. उनकी ये इच्छा अधूरी रह गई. बाकी सब पूरी हो गई."

ये वो सपने हैं जो अब शोभारानी की आंखों में बस गए हैं और अब बाकी की ज़िदंगी वो इन्हीं में फतेह सिंह को तलाशने के इरादे में है.

शोभा रानी कहती हैं, "मेरे लिए तो मेरे साथ ही हैं वो, जब तक रहूंगी मेरे साथ ही रहेंगे वो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार