यूपीः महिला हेल्पलाइन प्रभारी को हटाया गया

उत्तर प्रदेश, महिला पुलिस इमेज कॉपीरइट Jaya NIgam

उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक छात्रा की शिकायत पर महिला हेल्पलाइन 1090 के प्रभारी को उनके पद से हटाकर उनके मूल विभाग में वापस भेज दिया है. छात्रा ने प्रभारी पर उत्पीड़न का आरोप लगाया था.

राज्य सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए महिला पावर लाइन के आईजी नवनीत सिकेरा से इसकी जांच कर सरकार को रिपार्ट सौंपने को कहा था.

सिकेरा के अनुसार छात्रा ने अक्टूबर महीने में लखनऊ के महानगर थाने में किसी व्यक्ति के ख़िलाफ़ परेशान करने की रिपोर्ट लिखवाई थी. इस पर कोई कार्रवाई न होने पर उसने हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज करवाई.

Image caption उत्तरप्रदेश पुलिस

सिकेरा के मुताबिक, "छात्रा पिछले दिनों एक पांच पन्ने की शिकायत महिला सम्मान प्रकोष्ठ की महानिदेशक सुतापा सान्याल के पास गई थीं."

"इसमें पिछले मामले में कार्रवाई न होने के अलावा ये आरोप भी लगाया कि महिला हेल्पलाइन 1090 प्रभारी राघवेंद्र प्रताप सिंह उससे व्हाट्सएप पर बातचीत करने के लिए अपने निजी मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करते थे."

हेल्पलाइन में काम करने वाले किसी भी कर्मचारी को किसी भी पीड़ित महिला से व्यक्तिगत नंबर से बातचीत करने की अनुमति नहीं है, इसलिए नियमों के उल्लंघन के आरोप में उन्हें तत्काल प्रभाव से विभाग से हटा दिया गया है.

Image caption उत्तरप्रदेश पुलिस का महिला हेल्पलाइन दफ्तर

आईजी सिकेरा के अनुसार करीब तीन साल पहले शुरू हुई इस योजना में ये पहला मौका है जब किसी कर्मचारी के ख़िलाफ़ ऐसी शिकायत मिली है.

महिला हेल्पलाइन पर उत्तर प्रदेश के किसी भी ज़िले से कोई भी महिला फ़ोन पर की जा रही अश्लीलता के ख़िलाफ़ शिकायत कर सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार