क्या गुरू गोगोई का खेल बिगाड़ देगा चेला?

इमेज कॉपीरइट www.himantabiswasarma.com

भारतीय जनता पार्टी के नेता हेमंत बिस्वा सरमा ने अप्रैल में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में कामयाबी के लिए पूरी ताकत झोंक दी है.

वे लगातार दौरे कर रहे हैं, कमज़ोर कड़ियाँ कसने में लगे हैं, और हाँ उनका न्यूज़ चैनल भी उनकी मदद के लिए पूरी तरह से तैनात है.

दरअसल, हेमंत के लिए असम विधानसभा चुनाव प्रतिष्ठा बचाने के साथ-साथ राजनीतिक जीवन-मरण का भी प्रश्न है. ये एक बड़ी चुनौती भी हैं और बड़ा अवसर भी.

चुनौती ये साबित करने की है कि वे अपने दम पर भाजपा को जीत दिला सकते हैं या नहीं. विरोध के बावजूद भाजपा हाईकमान ने उन पर लगे तमाम दाग़ों को दरकिनार करके इसी उम्मीद में गले लगाया था कि वे पूर्वोत्तर में झंडा गाड़ने के उसके मिशन को अंजाम देंगे.

हेमंत पर कम से कम तीन मामलों में भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं. शारदा चिट फंड घोटाले में सीबीआई उनके घर पर छापे मार चुकी है. इसके मालिक सुदीप्तो सेन से उनके करीबी रिश्तों के बार में सीबीआई ने उनसे पूछताछ भी की थी.

इसके अलावा नॉर्थ कछार हिल्स घोटाले और लुईस बर्जर रिश्वत कांड में भी उनका नाम आ चुका है. और तो और भाजपा खुद भी उनके भ्रष्टाचार के बारे में बुकलेट जारी कर चुकी है.

इमेज कॉपीरइट www.himantabiswasarma.com

निम्न मध्यवर्गीय पृष्ठभूमि से आने वाले हेमंत की आर्थिक तरक्की चौंकाने वाली है. इसमें उनके अल्फा से संबंधों का कितना योगदान रहा, ये आम चर्चा का विषय रहता है.

जहाँ तक अवसर का सवाल है तो वह हेमंत के ख़ुद मुख्यमंत्री बनने का है. कांग्रेस छोड़कर उन्होंने भाजपा का दामन इसीलिए थामा था कि तरूण गोगोई ताज उन्हें सौंपने के लिए तैयार नहीं थे.

मुख्यमंत्री बनने के लिए उन्होंने गोगोई के खिलाफ़ मुहिम छेड़ी और पार्टी के अंदर बगावत भी की. लेकिन जब फिर भी उनकी महत्वाकांक्षा पूरी नहीं हुई तो पार्टी को तोड़ने की कोशिश भी कर डाली.

भाजपा में शामिल होते वक्त वे तोहफे के तौर पर नौ विधायक भी साथ ले गए. हालाँकि उन्होंने वादा तो 52 विधायकों का किया था, मगर वह पूरा नहीं कर सके.

दरअसल, हेमंत की पहचान ही यही है कि वे एक अच्छे चुनाव प्रबंधक हैं. पिछले चुनाव में कांग्रेस की शानदार जीत के लिए उनके प्रबंधन को भी श्रेय दिया जाता है.

हेमंत एक अच्छे वक्ता भी हैं और कड़ी मेहनत करने वाले नेता भी. लोगों को साथ लेने का हुनर उन्हें आता है. वे विरोधियों को सहमत करने में माहिर माने जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट www.himantabiswasarma.com

गोगोई मंत्रिमंडल के सबसे काबिल मंत्री के रूप में भी उनकी पहचान होती थी. शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में उनके काम को काफी सराहा गया था.

एक समय वे मुख्यमंत्री गोगोई के दाहिने हाथ माने जाते थे. लोगों का ये भी मानना था कि गोगोई उनकी सलाह के बिना कुछ नहीं करते थे. गोगोई ने पूर्व में उनका बचाव भी किया था.

हेमंत पर अल्फा के लिए काम करने का आरोप लग चुका है. पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार भी किया था. गोगोई की मेहरबानी से वे बच गए. केस डायरी ही ग़ायब हो गई और उनके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं हो सकी.

ख़ुद गोगोई प्रेस कांफ्रेंस में कह चुके हैं कि हेमंत उनकी आँखों के तारे थे और जिस भी काग़ज़ पर दस्तख़त करने लिए कहते थे, वे कर देते थे. शायद यहीं से हेमंत की महत्वाकांक्षाओं को पंख लगने शुरू हो गए थे.

हेमंत के बारे में ये भी आरोप है कि जो भी उन्हें बढ़ावा देता है, वे उसी के साथ धोखा करते हैं. पहले हितेश्वर सैकिया के साथ भी उन्होंने ऐसा किया था.

इमेज कॉपीरइट www.himantabiswasarma.com

मुख्यमंत्री के साथ उनकी अनबन तब शुरू हुई जब गोगोई ने अपने बेटे गौरव गोगोई को आगे बढ़ाना शुरू किया. हेमंत को लगा कि मुख्यमंत्री पद का नया दावेदार खड़ा हो रहा है. बस तभी उनका सुर बदल गया. वे विद्रोह पर उतर आए.

बहरहाल, भाजपा हाईकमान ने उन्हें पार्टी में शामिल करते ही चुनाव अभियान के संयोजक की ज़िम्मेदारी सौंपकर उन पर विश्वास भी जताया था. पार्टी के पास राज्य में कोई खास प्रभावशाली नेता भी नहीं था, इसलिए ये उसकी मजबूरी भी थी कि वह हेमंत को ही कमान सौंपे.

लेकिन हेमंत के सामने अब केंद्रीय मंत्री सर्बनंद सोनोवाल के रूप में एक प्रतिद्वंद्वी भी है. सुषमा स्वराज ने उन्हें भावी मुख्यमंत्री के रूप में पेश भी कर दिया है. ऐसे में उन्हें अपनी गोटियाँ बहुत सँभलकर चलनी होगी.

शायद इसी को ध्यान में रखकर उन्होंने मीडिया के ज़रिए अपनी इमेज बिल्डिंग का काम तेज़ कर दिया है. उनका चैनल दिन-रात इस काम में जुटा हुआ है. भाजपा हाईकमान को ये बात सुहा नहीं रही लेकिन अभी वह उन्हें रोकना नहीं चाहता.

इमेज कॉपीरइट www.himantabiswasarma.com

वैसे हेमंत के सामने सबसे बड़ी समस्या यही है कि वे अपने कितने समर्थकों को टिकट दिलवा और जिता सकते हैं. हालाँकि संभावनाएं बहुत कम हैं. अगर भाजपा जीतती है तो मुख्यमंत्री पद का फैसला करते समय इसका सबसे अधिक महत्व होगा.

कांग्रेस से उनके साथ केवल नौ विधायक आए थे और वे सभी जीतकर आएंगे इसमें भी संदेह है. आधे विधायकों के चुनाव क्षेत्रों से अच्छी रिपोर्ट नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार