हाजी अली में मज़ार तक जाने की महिलाओं की मांग

हाजी अली में मुस्लिम महिलाएं इमेज कॉपीरइट Ashwin Aghor

महाराष्ट्र में शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के पूजा के अधिकार को लेकर हुए हंगामे के बाद मुंबई की हाजी अली दरगाह में महिलाओं के अधिकार की मांग उठ रही है.

मुंबई स्थित संगठन भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन ने हाजी अली दरगाह में मज़ार तक जाने की माँग को लेकर आज़ाद मैदान में गुरुवार को धरना दिया.

भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन ने मुंबई उच्च न्यायालय में इस मांग को लेकर एक जनहित याचिका पहले से ही दायर की है.

संगठन की प्रमुख नूरजहाँ नियाज़ ने बीबीसी को बताया, “हाजी अली दरगाह में महिलाओं पर लगी पाबंदियों को हटाने की हमारी पुरानी मांग है. इसके लिए हमने मुंबई उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की है. हमारी मांग है कि अब सरकार इस मामले में हस्तक्षेप कर महिलाओं के साथ न्याय करे.”

इमेज कॉपीरइट Ashwin Aghor

नियाज़ के मुताबिक यह मुद्दा सिर्फ मुस्लिम महिलाओं पर हाजी अली दरगाह में लगे पाबंदियों तक ही सीमित नहीं है, यह हर धर्म की महिलाओं की समस्या है.

नियाज़ ने कहा, “अब समय आ गया है कि अलग-अलग धर्मों की महिलाएं एक साथ आवाज उठाएं और अपनी मांगें समाज और सरकार से मनवा लें.”

उन्होंने कहा कि शुक्रवार को राज्य महिला आयोग के अध्यक्ष से मिलकर उन्हें मांगों का ज्ञापन सौंपा जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Ashwin Aghor

गुरुवार को हुए धरने को मुंबई स्थित सूफ़ी विचार मंच और भूमाता ब्रिगेड ने समर्थन दिया.

इससे पहले अहमदनगर जिले के शनि शिंगणापुर के शनि मंदिर के चबूतरे पर महिलाओं को प्रवेश देने की मांग करते हुए भूमाता ब्रिगेड ने 26 जनवरी को आंदोलन किया था लेकिन इससे पहले कि आंदोलनकारी महिलाएं शिंगणापुर पहुँच पातीं, पुलिस ने उन्हें रोक कर हिरासत में ले लिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार