तस्वीरें- इस बार भी सूरजकुंड में कुछ तो है ख़ास

सूरजकुण्ड मेला इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption सूरजकुण्ड मेले में इस साल का विषय है तेलंगाना राज्य.

हरियाणा के फ़रीदाबाद में हर साल फ़रवरी के पहले पखवाड़े में लगने वाले सूरजकुंड मेले में हस्तशिल्प की प्रदर्शनियों से लेकर हेलिकॉप्टर से सैर और महिलाओं के लिए सैनेटरी पैड तक के इंतज़ाम किए गए हैं.

सूरजकुंड मेला ग्राउंड में पहली बार चार महिला शौचालय खंडों में सैनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीनें लगाई गई हैं.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption 30वां सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला, 15 फ़रवरी तक चलेगा.

हरियाणा टूरिज़्म की वेबसाईट के अनुसार, हर साल इस मेले में क़रीब 10 लाख दर्शक आते हैं, जिनमें विदेशी सैलानियों की संख्या हज़ारों में होती है.

वेबसाइट का दावा है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा मेला है.

हरियाणा सरकार द्वारा आयोजित इस मेले में देश के विभिन्न राज्यों के व्यापारी हिस्सा लेते हैं. इस बार इसमें 20 देश और भारत के लगभग सभी राज्य हिस्सा ले रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption हरियाणा जहाँ दूध दही का खाना

यह मेला भारत के हस्तशिल्पों, हथकरघों और सांस्कृतिक धरोहर की विविधता को दर्शाता है.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption लोगों को आकर्षित करने के लिए कुछ न कुछ ज़रूर है

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की तरफ से हरियाणा के स्टाल में दर्शकों के लिए हरियाणा की परंपरागत पगड़ी बांधने की व्यवस्था की गई है.

इमेज कॉपीरइट indu pandey

सूरजकुंड मेले की थीम तेलंगाना राज्य है जिसे बने अभी दो साल भी नहीं हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption 30वां सूरजकुण्ड अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला पहली से 15 फरवरी तक है

मेले में तेलंगाना की विविधता भरी कलाओं और शिल्प के साथ-साथ गीत-संगीत के कार्यक्रम भी आयोजित हो रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption देश और विदेश के कलाकार यहाँ आये है

हरियाणा टूरिज़्म के एमडी विकास यादव का कहना है कि इस मेले की देश विदेश में लोकप्रियता को देखते हुए साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखा जा रहा है.

इस विशाल मेले का ऊपर से नज़ारा लेने के लिए हेलिकॉप्टर की सुविधा रखी गई है.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption सेल्फी पॉइंट बनाये गए है.

मेले का एक और आकर्षण है, चौपाल. इसमें हर शाम अलग अलग रंग देखे जा सकते हैं, कभी ब्रज की होली तो कभी विदेशी कलाकारों का नाच गाना.

ये चौपाल यहाँ आने वाले लोगों को खासे आकर्षित कर रहे हैं. अफ्रीका के कलाकरों ने चौपाल पर पहली बार अपना पारंपरिक नृत्य पेश किया.

इमेज कॉपीरइट indu pandey
Image caption कुछ ऐसा नज़ारा भी सूरजकुंड मेला का .

मेले में घूम रहे सेल्फी के दीवानों को लुभाने के लिए कई जगह सेल्फी प्वाइंट बनाए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार