'सरकार गठन पर पीडीपी-बीेजेपी रूख़ करे साफ़'

भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर में सरकार गठन को लेकर राज्यपाल ने दोनों दलों - पीडीपी और बीजेपी, को मंगलवार को बैठक के लिए बुलाया है.

समाचार ऐजेंसी का कहना है कि बातचीत से पहले बीजेपी नेताओं का कहना था कि वो सरकार बनाने को लेकर किसी तरह के दबाव में नहीं आएंगे.

उनके मुताबिक़ सरकार का एजेंडा तय है और ये फ़ैसला महबूबा मुफ़्ती को करना है कि उनके पिता मुफ्त़ी मोहम्मद सईद ने सरकार चलाने को लेकर जो रोडमैप बनाया था उसे वो जारी रखेंगी या नहीं.

राज्य के नेताओं ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और दूसरे वरिष्ठ नेताओं के साथ विचार-विमर्श किया है.

इमेज कॉपीरइट Other

राज्यपाल एनएन वोहरा ने दोनों दलों को सोमवार को एक चिट्ठी भेजी है. वोहरा ने दोनों दलों से कहा है कि सरकार गठन पर अपना रुख़ मंगलवार तक साफ़ करें.

पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्त़ी मोहम्मद सईद के निधन के बाद सूबे में राष्ट्रपति शासन लागू है.

इमेज कॉपीरइट AFP

रविवार को महबूबा ने कहा था कि इस बारे में कोई अंतिम फैसला करने से पहले वह इस बात पर एक बार फिर विचार करेंगी कि नरेंद्र मोदी सरकार निश्चित समय में राज्य के अहम राजनीतिक और आर्थिक मुद्दों पर फ़ैसला ले पाएगी या नहीं?

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतपाल शर्मा का कहना है कि सरकार गठन को लेकर पीडीपी ने कोई शर्त या मांग लिखित रुप में नहीं दी है.

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी गठबंधन के एजेंडे के क्रियान्वयन के लिए प्रतिबद्द है और पीडीपी की जो भी मुद्द होगा उसका हल निकालेंगे.

87 सदस्यीय राज्य विधानसभा में 27 सदस्य पीडीपी के हैं वहीं बीजेपी के विधायकों की संख्या 25 है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार