स्मार्टफ़ोन या कंप्यूटर को मालवेयर से ऐसे बचाएं

स्मार्टफ़ोन

अक्सर आपको ऐसे ईमेल मिलते हैं जो दावा करते हैं कि आपके स्मार्टफ़ोन में वायरस है. कभी कभी ऐसे विज्ञापन भी स्मार्टफ़ोन के निचले हिस्से में दिखाई देते हैं.

ऐसे ही ख़तरों से निपटने के लिए कंप्यूटर या मोबाइल पर एंटी-वायरस होना ज़रूरी है.

अपने स्मार्टफ़ोन पर आप एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर भले ही रख लें. लेकिन उससे भी बढ़िया होगा कि आप ऐसे ख़तरों को पहचानें और ऐसे वायरस को स्मार्टफ़ोन में जगह बनाने ही नहीं दें.

ऐसे विज्ञापनों का काम यही होता है कि आपको इतना डरा देंगे कि उसके बाद आप उनके ऐप डाउनलोड कर लें. और वहीं से आप की परेशानी शुरू हो सकती है.

ऐसे ख़तरनाक विज्ञापनों से कैसे बच सकते हैं, आइए उसका रास्ता बताते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

तीन तरह के ऐसे खतरों से बचना बहुत ज़रूरी है.

वेबसाइट के विज्ञापन आपको डराने की कोशिश करते हैं या ऐसा दावा करते हैं कि वो आपका आईपी एड्रेस जानते हैं. उनका कभी-कभी ये भी दावा होता है कि आपके कंप्यूटर पर वायरस हैं जिसे वो दूर कर सकते हैं.

कोई भी एंटी-वायरस कंपनी आपके कंप्यूटर के वायरस जानकार उसके बारे में विज्ञापन नहीं देगी. इसलिए ऐसे विज्ञापन से दूर रहें.

कभी-कभी ऐसे ब्राउज़र आपके स्मार्टफ़ोन या कंप्यूटर पर पॉप-अप के रूप में दिखाई देंगे. उनका काम भी आपको डरा कर उनके लिंक पर क्लिक कराने का होता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वो अक्सर चाहेंगे कि उसी वक़्त आप उस पॉप अप पर क्लिक करें. यही देख कर आपको उससे दूरी बना लेनी चाहिए.

कंप्यूटर पर कभी-कभी सिस्टम नोटिफिकेशन स्क्रीन के निचली दाहिने हिस्से में दिखाई देते हैं. ऐसे मैसेज का भी सीधा इलाज है उनसे दूर रहना.

अगर आपको ऐसे मैसेज दिखाई देते हैं तो आपको क्या करना चाहिए.

सबसे पहले, ऐसे मैसेज के लिंक पर कभी क्लिक मत कीजिए. उसके बाद इंटरनेट पर उनके प्रोडक्ट के बारे में पता कीजिए.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

अकसर आपको उस नाम का कोई सिक्योरिटी प्रोडक्ट ही नहीं मिलेगा. अगर ऐसा कोई प्रोडक्ट मिल गया तो उसके बारे में थोड़ी जानकारी लेने की कोशिश कीजिए.

अगर आपके इंटरनेट ब्राउज करते समय वो पॉप-अप विज्ञापन दिखाई दे रहा था तो ब्राउज़र को बंद कर दीजिए. सिर्फ उस विज्ञापन पर 'X' पर क्लिक करके बंद करने से काम नहीं चलेगा. अगर वो अलर्ट ब्राउज़र के बंद करते ही बंद हो जाता है तो वो फ़र्ज़ी विज्ञापन था.

आपके स्मार्टफ़ोन या कंप्यूटर पर अगर ऐसे पॉप-अप विज्ञापन आ रहे हैं या वायरस अलर्ट आ रहे हैं तो उसको एक बार पूरी तरह से स्कैन कर लीजिए.

हो सकता है उसमें मालवेयर हो जो आपके बारे में जानकारी जमा कर रहा है. आप जितनी जल्दी उससे छुटकारा पा लें उतना बढ़िया है.

मालवेयर भगाने के लिए आपको पूरी जानकारी यहां मिल सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार