मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली नहीं रहे

उर्दू के मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली का सोमवार को मुंबई में निधन हो गया. वो 77 साल के थे.

गाना सुनने के लिए क्लिक करें

निदा फ़ाज़ली को आसान भाषा में लिखे दोहों के लिए ख़ास तौर पर याद किया जाएगा. निदा फ़ाज़ली का असली नाम मुक्तदा हसन था.

उनके दोहों और ग़ज़लों को जगजीत सिंह की आवाज़ ने लाखों-लाख लोगों तक पहुँचाया.

1990 के दशक में निदा फ़ाज़ली के दोहों का एलबम जगजीत सिंह ने गाया था जो बहुत लोकप्रिय हुआ था, इस एलबम का नाम था –इनसाइट.

गाना सुनने के लिए क्लिक करें

‘इनसाइट’ में भारत की मिली-जुली संस्कृति, इंसानियत की बेहद सादगी भरी और सुंदर झलक दिखाई देती है.

पद्मश्री और साहित्य अकादमी जैसे पुरस्कारों से सम्मानित निदा आम जनता के लोकप्रिय शायर थे, उनके पाँच संग्रह प्रकाशित हुए, उन्होंने कुछ फ़िल्मों के लिए भी गाने लिखे.

गाना सुनने के लिए क्लिक करें.

फ़िल्म ‘सुर’ के लिए लिखे उनके गाने बहुत लोकप्रिय हुए थे, उन्होंने फिल्म रज़िया सुल्तान के दो गाने भी लिखे थे.

फ़िल्म सरफ़रोश का ‘होशवालों को ख़बर क्या, बेख़ुदी क्या चीज़ है’ बहुत लोकप्रिय हुआ था.

गाना सुनने के लिए क्लिक करें

निदा फ़ाज़ली ने हिन्दी फ़िल्मों के लिए गाने भी लिखे हैं.

निदा फ़ाज़ली ने अंदाज़े बयाँ के नाम से बीबीसी हिंदी के लिए कॉलम भी लिखा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार