'बैंक अब सोच-समझकर लोन देंगे'

रघुराम राजन इमेज कॉपीरइट Reuters

सरकारी बैंकों के ख़राब लोन के आंकड़ों से वित्तीय तंत्र को लगी चोट पर आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने मरहम लगाने की कोशिश की.

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के गवर्नर रघुराम राजन ने गुरुवार को भरोसा दिलाया कि बैंकों की बैलेंस शीट ठीक करने की आरबीआई और सरकार की कोशिश सफल होगी.

उन्होंने विश्लेषकों को भी बैंकों के नॉन पर्फ़ॉर्मिग एसेट को लेकर डर फैलाने से चेताया है.

समाचार एजेंसी रायटर्स के मुताबिक़ मुंबई में बैंक अधिकारियों, कंपनी के कार्यकारी अधिकारियों के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, "शेयरों में मचा कोहराम गुज़र जाएगा. स्थिति ठीक हो जाएगी और भारत के बैंकों की तबियत भी सुधर जाएगी."

पिछले दिनों भारतीय बैंकों के ख़राब लोन की रक़म क़रीब सौ अरब डॉलर तक पहुंचने की ख़बर से निवेशकों में चिंता है.

रघुराम राजन ने कहा कि आरबीआई पूंजी उपलब्ध कराकर मार्च 2017 तक बैंकों की सेहत दुरुस्त करने की कोशिश करेगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने भरोसा जताया कि सरकारी बैंकों को पूंजी उपलब्ध कराना काफ़ी होगा.

आरबीआई के अनुमान के मुताबिक़ कुछ ही सरकारी बैंक सरकारी मदद के बगैर पूंजी की मूल ज़रूरत पूरी करने में नाकाम रहेंगे.

ख़राब लोन के आसमान छूते आंकड़ों ने बैंकों के शेयर भी गिराए हैं.

कुछ विश्लेषकों ने चेतावनी दी है कि हो सकता है कि कुछ बैंकों ने डूबे हुए ऋण की रक़म को कम दिखाया हो. ऐसे में वित्तीय समस्या और गहरी हो सकती है.

रघुराम राजन ने यह भरोसा भी जताया कि बैंक अब सोच-समझकर ऋण देंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार