'जिन्हें एक हस्ताक्षर पर मिलते हैं हज़ारों करोड़'

औद्योगिक घरानों ने सरकार से लिया हज़ारों करोड़ रुपये का कर्ज नहीं चुकाया, जबकि एक आम आदमी आम तौर पर ऐसा सोच भी नहीं सकता.

ज़ाहिर है ये पैसा टैक्स देने वालों का ही था, लेकिन इतनी बड़ी रकम डूब जाने के लिए कौन ज़िम्मेदार है.

आखिर ये पैसा कहां गया, इस मामले पर बीबीसी ने आर्थिक विश्लेषक परंजॉय ठाकुरता गुहा से विशेष फेसबुक चैट की.

इसमें पूछे गए कुछ चुनिंदा सवाल और उनके जबाव आप भी जानिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार