पुलिस लिस्ट में सीपीआई नेता की 'बेटी का नाम'

इमेज कॉपीरइट Other

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ़्तारी पर वामपंथी दलों और जेडी(यू) के नेताओं ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की है.

जेएनयू में छात्रों का साथ देने के लिए सीपीएम नेता सीताराम यचुरी, कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा पहुंचे. लेकिन जब कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी पहुंचे तो कुछ छात्रों ने उन्हें काले झंडे दिखाए.

सीपीएम के महासचिव सीताराम यचुरी ने कहा, ''हमने गृह मंत्री से मुलाक़ात की और बताया कि इस घटना के बाद जेएनयू में तनाव का माहौल है. दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में 20 छात्रों की सूची जारी की है जिसमें डी राजा की बेटी का नाम भी है, हम ये पूछ रहे है कि क्या वीडियो में नारे लगाते हुए वो दिख रहे हैं?''

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

जेएनयू में छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को देशद्रोह के मामले में गिरफ़्तार कर लिया गया था.

पिछले दिनों विश्वविद्यालय परिसर में संसद हमले के दोषी अफ़जल गुरु की बरसी पर कार्यक्रम आयोजित किया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

आरोप है कि इस कार्यक्रम में भारत विरोधी नारे लगाए गए थे. पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद महेश गिरी की शिकायत पर पुलिस ने कई लोगों के ख़िलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया था.

सीपीएम नेता सीताराम ने कहा ये छात्र वहां मौजूद थे क्योंकि ये छात्र संघ या समूह के सदस्य हैं लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि वे इस तरह की कार्रवाई में लिप्त थे.

इमेज कॉपीरइट PTI

वामदलों के नेताओं के अलावा गृहमंत्री से मुलाकात करने गए जेडी(यू) के प्रवक्ता केसी त्यागी ने आरोप लगाया, ''नए उप कुलपति सरकार के निर्देशों के अनुसार काम कर रहे हैं और उन्होंने पुलिस को कार्रवाई करने दी. ऐसा सभी यूनिवर्सिटी में हो रहा है. कुलपतियों को हटा कर सरकार ऐसे लोगों को नियुक्त कर रही है जो उनके निर्देशों पर काम कर रहे हैं.''

जेडी(यू)के नेता केसी त्यागी का कहना है कि जिस तरह से सभी छात्रों को राष्ट्र विरोधी बताया जा रहा है ये बहुत गंभीर समस्या है, हमने ये सभी मुद्दे राजनाथ सिंह के सामने उठाए हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है, ''मोदीजी पुलिस का इस्तेमाल कर सभी को आतंकित करना चाहते है.''

दिल्ली पुलिस के कमीश्नर बीएस बस्सी ने केजरीवाल के ट्विट का जवाब देते हुए कहा है कि दिल्ली पुलिस क़ानून के प्रति प्रतिबद्ध है और किसी तरह की दुर्भावना में शामिल नहीं होती. किसी निर्दोष के साथ गलत नहीं होगा.

सपा के नेता आज़म खान का कहना था कि जेएनयू एक धर्मनिरपेक्ष संस्थान है. भारतीय जनता पार्टी ने जो आरोप लगाए हैं उसकी जांच होनी चाहिए और बीजेपी की भाषा जेएनयू में नहीं चलेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार