'ग़रीब का बेटा है, इसलिए फंसाया गया है'

इमेज कॉपीरइट shivanand giri
Image caption कन्हैया की मां, बहन और परिवार

जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ़्तारी जहां इस वक़्त एक राष्ट्रीय मुद्दा बन गई है, वहीं उनके परिवार का कहना है कि 'ग़रीब का बेटा होने की वजह से उन्हें फंसाया जा रहा है'.

कन्हैया का संबंध बिहार के बेगुसराय ज़िले से है और उनका परिवार ज़िले के बरौनी प्रखंड के बीहट में रहता है.

उनके पिता जयशंकर सिंह लकवा ग्रस्त हैं जबकि उनकी मां आंगनबाड़ी सेविका हैं.

इमेज कॉपीरइट shivanand giri

बेटे की गिरफ्तारी पर जयशंकर सिंह कहते हैं, "राजनीतिक द्वेषता के कारण मेरे बेटे को फंसाया गया है क्योंकि जेएनयू में एबीवीपी की क़रारी हार हुई. इसलिए खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे वाली बात चरितार्थ कर रही है बीजेपी सरकार".

वहीं, कन्हैया की माँ मीना सिंह कहती हैं, "जिस बच्चे को बचपन से पाले-पासे हैं, भला उसके बारे में दूसरा कैसे जान सकता है. मेरा बेटा निर्दोष है. ग़रीब का बेटा है इसलिए उसे फंसाया जा रहा है. कन्हैया ऐसी ग़लती कर ही नहीं सकता."

कन्हैया कुमार को जेएनूय में संसद हमले के दोषी अफ़जल गुरु की बरसी पर हुए एक कार्यक्रम के सिलसिले में गिरफ़्तार किया गया है.

भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि इस कार्यक्रम में भारत विरोधी और पाकिस्तान समर्थक नारे लगे.

वहीं विपक्ष का कहना है कि कहैन्या कुमार निर्दोष है और इस बात की जांच होनी चाहिए कि भारत विरोधी नारे लगाने वाले कौन लोग थे.

इमेज कॉपीरइट FAMILY KANHAIYA KUMAR
Image caption परिवार का कहना है कि कन्हैया एक मेधावी छात्र रहे हैं. यहां कन्हैया को बचपन में सीपीआई नेता एबी बर्धन के साथ देखा जा सकता है.
इमेज कॉपीरइट shivanand giri
Image caption कन्हैया का स्कूल
इमेज कॉपीरइट shivanand giri
Image caption कन्हैया की गिरफ्तारी के बाद उनके गांव और घर में लोगों का आना-जाना बढ़ गया है

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)