'मीडिया ने मुझे गुंडा बनाकर पेश किया'

विक्रम चौहान इमेज कॉपीरइट Vikrm Chauhan facebook

जेएनयू छात्र संघ नेता कन्हैया कुमार की पेशी के दौरान पटियाला कोर्ट में हुई मारपीट के सुर्ख़ियों में आए वकील विक्रम चौहान का कहना है कि मीडिया में उन्हें ग़लत तरीक़े से पेश किया गया है.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा कि मीडिया में 'मुझे गुंडा बनाकर प्रोजेक्ट किया गया लेकिन मैं वकील समुदाय से आता हूं और क़ानून का सम्मान करता हूं.'

उन्होंने कहा, "जिस तरह मीडिया ने तमाम पार्टियों के नेताओं के साथ जोड़कर मेरी तस्वीरें दिखाईं, उसी तरह इन तस्वीरों की भी सच्चाई सामने आ जाएगी."

सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट में कन्हैया की पेशी से पहले वकीलों के एक गुट ने छात्रों और मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट की थी.

एक वीडियो फ़ुटेज मेें विक्रम चौहान को भी कथित तौर पर मारपीट करते हुए दिखाया गया है.

लेकिन विक्रम का कहना है कि कुछ बाहरी लोगों ने कोर्ट में आकर उनके साथ मारपीट की.

उन्होंने कहा, "हम क़ानून के साथ हैं और इसके रक्षक हैं और हम क़ानून तोड़ने नहीं आए हैं."

वो कहते हैं, "मीडिया ने तस्वीरों को तोड़ मरोड़ कर दिखाया है. इन तस्वीरों में मैं हूं लेकिन जिस ढंग से ये तस्वीरें दिखाई जा रही हैं वो उस ढंग से नहीं हैं."

17 फ़रवरी को जब कन्हैया की दोबारा पेशी हुई उस समय भी कोर्ट के बाहर मारपीट की गई.

इमेज कॉपीरइट AP

इसके बाद उन्हें और अन्य तीन वकीलों को दिल्ली पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया था लेकिन गुरुवार को पुलिस के सामने पेश नहीं हुए.

इस पर चौहन ने कहा, "समय आने पर पुलिस के सामने मेरा पक्ष मेरे सीनियर वकील रखेंगे."

(वकील विक्रम चौहन से बीबीसी संवाददाता सुशीला सिंह से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार