हरियाणा: फ़्लैग मार्च, अर्धसैनिक बल तैनात

जाट आंदोलन इमेज कॉपीरइट PTI

जाट आरक्षण आंदोलन से जूझ रहे हरियाणा के पुलिस महानिदेशक वाई पी सिंघल ने कहा कि पुलिस की प्राथमिकता क़ानून व्यवस्था कायम करना है.

उन्होंने कहा कि शुक्रवार के मुकाबले शनिवार को स्थिति बेहतर है और उम्मीद जताई कि जनता के सहयोग से स्थिति पर काबू पा लेंगे.

सिंघल ने लोगों से अपील की है कि वे अपने बच्चों को आंदोलन में न भेजें. उन्होंने खाप पंचायतों से भी फिलहाल अपनी बैठक नहीं करने की अपील की.

उन्होंने कहा कि हिंसा में शामिल लोगों की पहचान कर उनके ख़िलाफ़ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

इस बीच केंद्रीय मंत्री संजीव कुमार बालियान ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि राज्य सरकार इस मामले को सुलझाने की हरसंभव कोशिश कर रही है.

हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन हिंसक रूप लेता नज़र आ रहा है.

प्रभावित इलाक़ों में सेना का फ्लैग मार्च जारी है. रोहतक, भिवानी और झज्जर में कर्फ़्यू लगाया गया है. झज्जर से हालात बयान कर रहे हैं बीबीसी संवाददाता सलमान रावी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

सिंघल ने कहा, "अर्द्धसैनिक बलों की 10 टुकड़ियां पहुंच चुकी हैं जबकि 23 टुकड़ियां रास्ते में हैं. कुछ को एयरलिफ्ट से और कुछ को सड़क मार्ग से प्रभावित स्थानों तक पहुंचा रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने बताया कि उनकी बात केंद्रीय गृह सचिव से हुई है और वह 10 और टुकड़ियां देने पर राजी हो गए हैं.

सिंघल ने बताया कि हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हुई है जबकि 78 लोग घायल हुए. घायलों में पांच पुलिसकर्मी हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

46 लोगों को प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया गया है और 31 लोग अभी अस्पतालों में भर्ती हैं जिनमें से पांच आईसीयू में हैं.

डीजीपी के मुताबिक़ इस प्रदर्शनों के सिलसिले में 129 मुक़दमे दर्ज़ किए गए हैं और पांच लोगों की गिरफ़्तारी हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार