जाट आंदोलन: हरियाणा में तनाव, 16 की मौत

हरियाणा जाट प्रदर्शन

हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान अब तक 16 लोगों की मौत हो गई है और क़रीब तीन सौ लोग घायल हुए हैं. घायलों में पुलिसकर्मी भी शामिल हैं.

हरियाणा में पिछले कई दिनों से जाट समुदाय के सदस्य आरक्षण की मांग करते हुए आंदोलन कर रहे हैं.

हालाँकि रविवार को इस मुद्दे पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जाट समुदाय के कुछ प्रतिनिधियों से बातचीत कर आश्वासन दिया था.

उन्होंने वादा किया था कि जाटों की मांगे हरियाणा विधानसभा के अगले सत्र में मान ली जाएँगी, लेकिन आंदोलनकारियों का स्पष्ट नेतृत्व न होने के कारण ज़मीन का इसका असर कुछ जगह पर ही नज़र आ रहा है.

हरियाणा के अतिरिक्त गृह सचिव पीके दास ने बीबीसी को बताया, "हिंसा में मारे गए लोगों के आंकड़े सरकारी अस्पतालों से जुटाए गए हैं. हो सकता है कुछ घायलों ने निजी अस्पतालों में भी इलाज कराया हो."

इमेज कॉपीरइट KAPIL MISHRA Twitter

उन्होंने अब तक कुल 16 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है. पीके दास का कहना है कि आंदोलनकारियों की मांगें मानने की घोषणा के बाद हरियाणा में क़ानून व्यवस्था की स्थिति सुधर रही है.

दास के मुताबिक़ दिल्ली को अमृतसर से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोनीपत के पास विरोध प्रदर्शन के कारण यातायात रुका हुआ है.

दास कहते हैं, "हमने सुबह इस मार्ग पर यातायात शुरू करा दिया था लेकिन अभी सोनीपत के पास दिक़्क़त है."

दास कहते हैं, "आंदोलन बिना नेतृत्व के चल रहा है इसलिए कभी भी, कहीं भी कुछ समूह परेशानी पैदा कर रहे हैं. लेकिन हमने सुरक्षाबल भेजे हैं और जल्द ही हम रास्ता खुलवा लेंगे."

उधर सबसे ज़्यादा प्रभावित रोहतक ज़िले के एसडीएम दलबीर सिंह ने बताया, "शहर के एक हिस्से में जाट प्रदर्शनकारी अभी भी हैं लेकिन उनकी संख्या पहले से कम है और प्रदर्शन शांतिपूर्ण है."

उन्होंने बताया, "प्रशासन की प्रदर्शनकारियों से बात चल रही है और उम्मीद है कि आज ये धरना भी ख़त्म हो जाएगा." शहर के सुरक्षा हालातों के बारे में उन्होंने बताया, "आज कोई घटना नहीं हुई है. दुकानें खुली हैं और माहौल शांतिपूर्ण है."

वहीं दास कहते हैं, "हमारे सामने दो सबसे बड़ी चुनौतियां हैं. सबसे पहले क़ानून व्यवस्था को पूरी तरह बहाल करना. दूसरी सबसे बड़ी चुनौती जाटों और ग़ैर जाटों के बीच तनाव शुरू न हो, यह सुनिश्चित करना."

इंटरनेट सेवाओं की बहाली के बारे में उन्होंने कहा, "हमारी कोशिश है कि सोमवार को ही ये सुविधाएं सामान्य कर दी जाएं."

हरियाणा में यातायात व्यवस्था को लेकर उन्होंने कहा, "दिल्ली से जयपुर मार्ग सामान्य है. अागरा की ओर का रास्ता भी सामान्य है. दिल्ली से रोहतक होकर हिसार जाने वाला रास्ता अभी नहीं खुला है, वहां न जाया जाए. दिल्ली से अंबाला का रूट भी खुला है लेकिन आज इस पर रह-रहकर दिक़्कतें आ रही हैं."

दिल्ली को पानी बहाली के सवाल पर पीके दास ने कहा, "हमारी इंजीनियरिंग यूनिट ने सोमवार शाम तक नहर को हुए नुक़सान से निबटने का भरोसा दिया है. वे सुबह पांच बजे से ही मरम्मत के काम में जुटे हैं."

ज़रूरी सामान की क़िल्लत के सवाल पर दलबीर सिंह ने कहा, "दो-तीन दिनों से बाहरी संपर्क कटने के कारण कुछ ज़रूरी सामान की क़िल्लत हुई है लेकिन उसे दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं. आज शाम तक हालात बेहतर कर लिए जाएंगे."

बीबीसी से बात करते हुए कुछ स्थानीय लोगों ने ये ज़रूर कहा कि रोहतक में दूध 80 रुपए किलो तक बिक रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार