सोनी सोरी का दिल्ली के अस्पताल में इलाज

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

आम आदमी पार्टी नेता और सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी को दंतेवाड़ा में हुए हमले के बाद इलाज़ के लिए दिल्ली के अपोलो अस्पताल में दाखिल कराया गया है.

सोनी सोरी ने शनिवार रात बीबीसी को बताया था कि उनके चेहरे पर कुछ अज्ञात लोगों ने ज्वलनशील पदार्थ मल दिया था. इसके बाद उन्होंने शिकायत की थी कि उन्हें कुछ नज़र नहीं आ रहा.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया है. उनके मुताबिक़ सोनी सोरी का चेहरा जल गया है. उनकी आंखों की रोशनी के बारे में डॉक्टरों को चिंता है.

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

हालांकि मालिवाल के मुताबिक़ सोरी की जान ख़तरे से बाहर है. उनका आरोप है कि सोनी सोरी को पिछले दस दिनों से धमकियां मिल रही थीं और अब उनकी 15 साल की बेटी और साथियों को धमकियां दी जा रही हैं.

मालिवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मांग की है कि सोनी सोरी के हमलावरों को गिरफ्तार कर सख़्त सज़ा दी जाए. उन्होंने सोनी सोरी के लिए पुलिस सुरक्षा की मांग भी की है.

सोनी सोरी ने रविवार को बीबीसी को बताया था, "शनिवार रात 10 बजे के आसपास जब मैं जगदलपुर से लगभग 65 किलोमीटर दूर अपने घर गीदम जा रही थी, उसी समय बास्तानार के पास मेरी गाड़ी को अज्ञात मोटरसाइकिल सवारों ने रोका. मुझे गाड़ी से उतारा और धमकी दी. इसके बाद मेरे चेहरे पर कोई ज्वलनशील पदार्थ मल दिया."

वहीं दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप का कहना है कि सोनी सोरी के चेहरे पर केवल कालिख मली गई है, एसिड नहीं.

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए इस हमले के लिए सोनी सोरी नेे पुलिस को ही ज़िम्मेदार ठहराया है. लेकिन पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप ने कहा है कि ये सभी आरोप निराधार हैं और वो इनका कड़े शब्दों में खंडन करते हैं.

घटना के बाद सोनी सोरी का गीदम के अस्पताल में प्राथमिक उपचार किया गया.

गीदम अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद रात में ही सोनी सोरी को बस्तर के मुख्यालय जगदलपुर के महारानी अस्पताल में भर्ती कराया गया.

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

जगदलपुर के महारानी अस्पताल में भर्ती सोनी सोरी का कहना था कि उनकी स्थिति ठीक नहीं है.

उन्होंने रविवार की सुबह बीबीसी कहा था, ''डॉक्टरों के इलाज के बाद मुझे दर्द या जलन की शिकायत नहीं है. लेकिन चेहरे पर सूजन आ गई है और मुझे कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है.''

सोनी सोरी ने अपने सहयोगी का हवाला देते हुए कहा कि उन्हें पहले से ही आशंका थी कि उन पर इस तरह का हमला हो सकता है.

बीबीसी से बातचीत में पुलिस अधीक्षक कश्यप ने कहा था, ''जिस समय इस घटना की ख़बर मिली, पुलिस का अमला फ़ौरन सोनी सोरी तक पहुंचा और गीदम के अस्पताल में उनका प्राथमिक उपचार किया गया. हमारी डाक्टरों से भी बातचीत हुई, पूरी रिपोर्ट से साफ हुआ कि उनके चेहरे पर कालिख मली गई थी. घटना को अज्ञात लोगों ने अंजाम दिया है और मामले की जांच चल रही है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार