पानी की बूंद-बूंद बचाता 80 साल का बुज़ुर्ग

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

(यह बीबीसी की ख़ास सिरीज़ "हीरो हिंदुस्तानी" #HeroHindustani #UnsungIndians का पांचवां अंक है.)

रविवार की एक सुबह, मुंबई के मीरा रोड स्थित एक अपार्टमेंट कॉम्प्लेक्स के सबसे ऊपरी तल्ले पर 80 साल के बुज़ुर्ग पहुंचते हैं.

अगले चार घंटों के दौरान, आबिद सुरती कॉम्प्लेक्स में बने सभी 56 फ़्लैट के डोर-बेल बजाते हैं और हर घर वाले से एक ही सवाल पूछते हैं, “क्या आपके घर में कोई नल टपकता है?”

सुरती के साथ नल ठीक करने वाला एक कारीगर और एक स्वयंसेवी सहायक मौजूद होता है. जो घर वाले नल नहीं टपकने की बात करते हैं, उनसे आबिद सुरती माफ़ी मांग लेते हैं.

#UnsungIndians की पहली कड़ी: जिन्हें अमिताभ मानते हैं 'रियल हीरो'

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

लेकिन जो लोग बताते हैं कि उनके घर में नल टपक रहा है, तो वहां नल ठीक करने वाला उसे ठीक करता है. आबिद सुरती बीबीसी से बताते हैं, “मुझे टपकने वाले नलों से हमेशा दिक़्क़त होती है.”

आबिद सुरती 80 किताबों के लेखक हैं, कार्टूनिस्ट हैं और कलाकार भी हैं. सुरती कहते हैं, “जब मैं किसी दोस्त या रिश्तेदार के घर जाता हूं और अगर मुझे नल के टपकने की आवाज़ सुनाई देती है तो मैं उन्हें ठीक कराने के लिए कहता हूं.”

दरअसल सुरती इसके ज़रिए पानी की एक-एक बूंद बचाना चाहते हैं. उनका बचपन मुंबई के फ़ुटपाथों पर बीता है और उन्होंने अपनी मां को सुबह चार बजे पानी की बाल्टी लिए क़तार में खड़े देखा है.

इमेज कॉपीरइट

वह कहते हैं, “मैंने पानी की एक-एक बूंद के लिए लोगों को लड़ते देखा है. जब मैं कहीं भी नल को टपकता हुआ देखता हूं तो बचपन की याद कौंधने लगती है.”

#UnsungIndians की दूसरी कड़ी: कैंसर ने पैदा की दुनिया बदलने की चाहत

2007 में, उन्होंने अख़बार में प्रकाशित एक न्यूज़ रिपोर्ट देखी जिसमें कहा गया था कि अगर किसी टपकते नल से प्रति सेकेंड एक बूंद पानी भी गिरे तो हर महीने एक हज़ार लीटर पानी बर्बाद हो जाएगा.

सुरती कहते हैं, “यह बात मेरे दिमाग़ से नहीं निकल पाई कि कोई इस तरह से 1000 लीटर पानी बहा सकता है.”

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

इसके चलते ही उन्होंने ड्रॉप डेड फ़ाउंडेशन बनाया है, यह एक आदमी से चलने वाली ग़ैर-सरकारी संस्था है. जिसकी टैग लाइन है, “प्रत्येक बूंद बचाओ या मर जाओ.” उन्होंने एक प्लंबर को काम पर रखा है और उसके साथ लोगों के घरों के नल और उसकी टोंटियों को ठीक करने का काम करते हैं.

लेकिन ये इतना आसान काम भी नहीं था. अपनी पहली मुश्किल के बारे में वे बताते हैं, “आमतौर पर घर के दरवाज़े महिलाएं खोलती थीं और हम दो पुरुष. वे हमें संदेह से देखतीं और दरवाज़ा बंद कर लेतीं. इसके चलते हमने एक महिला स्वयंसेवी को भी साथ में रखा.”

#UnsungIndians की तीसरी कड़ी: जिनका कोई नहीं, उनके मसीहा हैं गुरमीत

इसके अलावा आबिद सुरती के दोस्त और परिवार वाले भी इस काम से बहुत ख़ुश नहीं हुए. सुरती बताते हैं, “वे लोग मुझसे कहते हैं, ये कुछ ही बूंदों की बात है, कोई पवित्र गंगा नदी को नाले में नहीं बहा रहा है. वे मुझसे केवल लिखने और चित्रकारी करने को कहते हैं. मैं कुछ बूंद पानी के पानी के पीछे क्यों पड़ा हूं? ये भी पूछते हैं.”

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

घर वालों को पैसों की भी चिंता होती है कि वे किस तरह से प्लंबर और स्वयंसेवी को भुगतान करते हैं? वे कहते हैं, “अगर आप ईमानदारी से कोई अच्छा काम करना चाहें तो पूरी कायनात आपकी मदद करने लग जाती है. आपके लिए ईश्वर पैसे जुटाने लगते हैं.”

आबिद सुरती ने जब अपने फ़ाउंडेशन की स्थापना का फ़ैसला लिया उन्हीं दिनों उन्हें ख़बर मिली कि उन्हें एक लाख रूपये का हिंदी साहित्य पुरस्कार मिला है.

सुरती बताते हैं, “मेरे ख़र्चे बहुत कम हैं. मैं प्लंबर और स्वंयसेवक को हर दिन पांच-पांच सौ रूपये दिया करता था. कुछ पैसे प्रचार सामग्री पर भी ख़र्च हुए. तो वह पैसा कुछ सालों तक चल गया.”

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

सुरती आगे बताते हैं, “जब मेरी वित्तीय स्थिति चरमराने लगती है तो भगवान मेरी मदद के लिए उपयुक्त आदमी को भेज देते हैं और बिन मांगे ही मुझे सहायता का चेक मिल जाता है.” इतना ही नहीं अब तो, प्लंबर और स्वयंसेवी साथी भी उनसे पैसा लेने से इनकार कर देते हैं.

आबिद सुरती के मुताबिक़ सालों से की जा रही उनकी कोशिशों के चलते वे कम से कम एक करोड़ लीटर पानी को बचाने में कामयाब हुए हैं. इतना ही नहीं, उनके कई फैंस और फॉलोअर भी बन गए हैं.

#UnsungIndians की चौथी कड़ी: ताकि कोई मां हादसे में किसी अपने को ना खोए

हाल ही में बॉलीवुड के सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने उन्हें अपने टेलीविज़न शो में आमंत्रित किया और आबिद सुरती के फ़ाउंडेशन को उन्होंने 11 लाख रुपये की सहायता राशि दी.

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

मीरा रोड पर एक महिला उन्हें टीवी शो के ज़रिए ही पहचानने में कामयाब रही. महिला उनसे कहा, “मैंने आपको अमिताभ बच्चन के साथ टीवी पर देखा था.” आबिद मज़ाक़िया अंदाज़ में कहते हैं, “देखिए, मैं अमिताभ बच्चन को भी लोकप्रिय बना रहा हूं.”

ज़्यादातर निवासी उनके काम की प्रशंसा करते हैं और कहते हैं कि आप शानदार काम कर रहे हैं और ये काम जारी रखिए. सुरती उन लोगों को जल संरक्षण की अहमियत के बारे में बताते हैं और ये संदेश आम लोगों तक पहुंचता दिखता है.

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

अपने घर में नल टपकने के चार-पांच दिन बाद सुरती को ठीक करने के लिए बुलाने वाले गौरव पांडेय ने बीबीसी से बताया, “पिछले कुछ सालों में मुंबई में पर्याप्त बारिश नहीं हुई है. पानी की कमी है. हम लोग नल टपकने को नज़रअंदाज़ कर देते हैं, क्योंकि हम जागरूक नहीं हैं. अगली बार ऐसा हुआ तो मैं जल्दी ही उसे ठीक कराऊंगा.”

सुरती कहते हैं, “जब पानी की कमी होती है, तो हम सरकार पर आरोप लगाने लगते हैं. लेकिन यह केवल सरकार का काम नहीं है. जल संरक्षण हमारा भी काम है.”

आबिद सुरती अपने आसपास के दुनिया में बदलाव लाने के लिए दूसरे लोगों को भी प्रेरित कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Anushree Fadnavis Indus Images

वे कहते हैं, “मैं सप्ताह में छह दिन तक काम करता हूं. लिखता हूं, पढ़ता हूं और पेंटिंग करता हूं. सातवें दिन मैं कुछ घंटे निकालकर जागरूकता फैलाने का काम करता हूं और अपने आस पड़ोस के लोगों प्रेरित भी करता हूं.”

आबिद ये भी कहते हैं, “आपको बड़ी योजनाओं की ज़रूरत नहीं है क्योंकि प्रत्येक बूंद की अहमियत है.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार