इशरत मामले में हलफ़नामा बदले जाने की जांच हो: भाजपा

पी चिदंबरम इमेज कॉपीरइट PTI

भारतीय जनता पार्टी ने मंगलवार को इशरत जहाँ एनकाउंटर मामले में पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम की भूमिका पर सवाल उठाए हैं.

इशरत जहाँ और तीन अन्य छात्र जून 2004 में अहमदाबाद में पुलिस के साथ हुई एक कथित मुठभेड़ में मारे गए थे.

पूर्व केंद्रीय गृह सचिव जीके पिल्लई ने हाल में कुछ टीवी चैनलों से कहा था कि पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम ने इशरत मामले में हलफ़नामा बदलवाया था. ये हलफ़नामा 2009 में गुजरात हाई कोर्ट में दायर किया गया था.

पढ़ें - इशरत जहाँ मुठभेड़: कब, क्या हुआ?

भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने एक प्रेस वार्ता में हलफ़नामा बदले जाने की जांच की मांग की और कहा कि भारत सरकार पता लगाए कि कौन किस पर दबाव डाल रहा था.

उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व गृह मंत्री के हलफ़नामे से राष्ट्रीय जांच एजेंसी, इंटेलिजेंस ब्यूरो, आरएडब्ल्यू की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े करने की कोशिश की गई.

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने पूछा, "क्या उस वक़्त पी चिदंबरम एक ज़िम्मेदार गृहमंत्री की तरह काम कर रहे थे?"

उधर पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, "जब मेरे संज्ञान में लाया गया कि पहले हलफ़नामे में कुछ चीज़े स्पष्ट नहीं हैं तो दूसरा हलफ़नामा दायर किया गया."

उन्होंने आगे कहा, "पुलिस की कार्रवाई पर कोई टिप्पणी नहीं की गई है. दूसरे हलफ़नामे में ये भी कहा गया है कि यदि तथ्यों की जांच से पता चलता है कि मामले में स्वतंत्र जांच की ज़रूरत है, चाहे सीबीआई जांच की ज़रूरत है, तो ऐसा किया जाएगा."

चिदंबरम ने कहा, "मैं उस समय मंत्री होने के कारण दूसरा हलफ़नामा दायर किए जाने की पूरी ज़िेम्मेदारी लेता हूँ और इस बात से निराश हूँ कि गृह सचिव जिन्हें मेरे साथ इसकी ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए थी, उन्होंने ऐसा बयान दिया है."

उधर रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाते हुए कहा, "पिल्लेई बहुत ही ईमानदार अफ़सर हैं और ये निराशाजनक है कि देश की सुरक्षा और हितों के साथ समझौता किया गया क्योंकि ये सब लोग मोदी से नफ़रत से प्रेरित थे और सीबीआई जांच चाहते थे."

प्रसाद ने बिना किसी का नाम लिए कहा, "ये सिर्फ़ चिंदमबरम का विषय नहीं है. उनके साथ कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की भी जाँच होनी चाहिए."

इशरत जहां एनकाउंटर मामले में सीबीआई ने अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच के वरिष्ठ अधिकारियों को अभियुक्त बनाया है.

दूसरी ओर भाजपा पर पलटवार करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, "इशरत जहाँ फ़र्ज़ी एनकाउंटर मामले में फंसे लोगों को बचाने की कोशिश की जा रही है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)