बीरभूम में दंगे रुके, लेकिन हालात क़ाबू में

बीरभूम
Image caption मंगलवार को गुस्साई भीड़ ने पुलिस स्टेशन पर तोड़फोड़ की थी

पश्चिम बंगाल के बीरभूम ज़िले में इलम बाज़ार में सांप्रदायिक हिंसा और फायरिंग के बाद स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है.

राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए बुलाए गए केंद्रीय अर्धसैन्य बल को इस इलाक़े में तैनात कर दिया गया है.

काफी संख्या में राज्य पुलिस बल और रैपिड एक्शन फोर्स भी यहां मौजूद है.

मंगलवार को पुलिस ने गुस्साई भीड़ को तितर बितर करने के लिए गोली चलाई थी जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई.

भीड़ ने एक पुलिस स्टेशन में तोड़फोड़ भी की थी.

बीरभूम के नज़दीक स्थित दुब्रजपुर में भी हालात तनावपूर्ण हैं.

सोमवार रात को सुजन मुखर्जी नाम के छात्र ने कथित तौर पर फ़ेसबुक पर एक विवादित टिप्पणी पोस्ट की थी, जिसके बाद से ये समस्या शुरू हुई.

मुखर्जी को गिरफ्तार कर 14 दिन की हिरासत में भेज दिया गया है. सूचना तकनीकी अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मुखर्जी पर आरोप लगाए गए हैं.

मंगलवार को इलम बाज़ार पुलिस स्टेशन पर काफी तादाद में लोग इकट्ठा हुए और मांग करने लगे कि मुखर्जी को उन्हें सौंप दिया जाए.

राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हालात पर लगातार नज़र बनाए हुए हैं लेकिन उन्होंने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार