खजुराहोः मूर्तियां ऐसी मानो अभी बोल पड़ेंगी

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

मध्यप्रदेश के छतरपुर ज़िले में स्थित खजुराहो देश के मुख्य और सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है.

अपने खूबसूरत मंदिरों के लिए प्रसिद्ध खजुराहो शिल्प के अलावा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रिय नृत्य समारोह के लिए भी आकर्षण का केंद्र है.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

इन विश्व प्रसिद्ध मंदिरों का निर्माण चंदेल राजाओं ने सन् 950-1050 के बीच करवाया था. पहले इसका नाम 'खर्जुरवाहक' था, जो आगे चलकर 'खजुराहो' के नाम से प्रसिद्ध हुआ.

सभी भारतीय शास्त्रीय नृत्य शैलियों का जन्म मंदिरों से हुआ है क्योंकि नृत्य का मुख्य उद्देश्य ईश्वर भक्ति था.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

आगे चलकर यह नृत्य राजदरबारों में किया जाने लगा पर तब भी इनमें देवताओं की कहानियों को ही दर्शाया जाता था. मंदिरों में नृत्य करने वाली देवदासियों को राज्याश्रय प्राप्त होता था.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

इस साल 42वें खजुराहो नृत्य समारोह में न केवल शास्त्रीय नृत्य संगम बल्कि कला दीर्घा, नेपथ्य और देशज कला परंपरा के कला मेले ने भी लोगों को आकर्षित किया.

भारतीय शास्त्रीय नृत्यों पर आधारित इस महोत्सव की शुरुआत खजुराहो में 1976 में हुई. तब से अब तक यह नृत्य समारोह हर वर्ष फ़रवरी-मार्च माह में आयोजित किया जाता है.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

पहले यह नृत्य समारोह मंदिर प्रांगण में ही किया जाता था पर 1986 में यूनेस्को द्वारा इन मंदिरों को 'विश्व धरोहर स्थल' घोषित किए जाने के बाद यह समारोह मंदिर के नजदीकी मैदान में आयोजित किया जाने लगा.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

ये मंदिर मध्युगीन भारत की शिल्प और वास्तुकला के बेहतरीन नमूने हैं. यहाँ दूर-दूर फैले मंदिरों की दीवारों पर देवताओं और मानव आकृतियों का अंकन इतना भव्य हुआ है कि पर्यटक मंत्रमुग्ध रह जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

कहा जाता है चंदेल राजाओं ने 84 खूबसूरत मंदिरों का निर्माण कराया था जिसमें से अब तक 22 मंदिरों की ही खोज हो पायी है. ये मंदिर शैव, वैष्णव और जैन सम्प्रदायों से संबंधित हैं.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

भारतीय शास्त्रीय नृत्य परंपरा बहुत समृद्ध है. नृत्य में नौ रसों की अभिव्यक्ति को दर्शक महसूस कर सकते हैं.

खजुराहो की मूर्तियों में एक ख़ास बात यह है कि इनमें गति है. लगातार देखते रहिए तो अहसास होता है ये चल रही हैं या अभी बोल पड़ेंगी.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

ये मंदिर बलुआ पत्थर से निर्मित किए गए हैं पर कुछ मंदिरों में ग्रेनाइट का भी इस्तेमाल हुआ है.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

अंतरराष्ट्रीय महत्व का सात दिवसीय खजुराहो नृत्य समारोह भारतीय शास्त्रीय नृत्य का सबसे बड़ा समारोह है.

इसमें नृत्य की सभी विधाओं जैसे ओडिसी, भरतनाट्यम, मणिपुरी, मोहिनीअट्टम आदि के कलाकार भाग लेते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार