'एक दिन समझ जाएंगे खुद पर ही चप्पल उछाल रहे हैं'

इमेज कॉपीरइट AFP

हैदराबाद में जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर एक बैठक के दौरान चप्पल फेंकी गई है.

बुधवार को कन्हैया को यूनिवर्सिटी कैंपस में घुसने पर रोक लगा दी गई थी जहां उन्होंने छात्रों को संबोधित करना था.

ये छात्र वाइस चांसलर प्रोफ़ेसर अप्पा राव पोदिले के छुट्टी से लौटने का विरोध कर रहे हैं.

गुरुवार को कन्हैया जब सौंदर्य विज्ञान केंद्र में संवैधानिक अधिकारों को लेकर एक बैठक कर रहे थे तो एक कथित दक्षिणपंथी कार्यकर्ता ने उन पर चप्पल फेंक दी.

बैठक के बाद कन्हैया ने बीबीसी हिंदी को बताया, ''चप्पल मुझे नहीं लगी. वह स्टेज पर गिरी. लेकिन मैं ऐसी कार्रवाइयों से घबराने वाला नहीं हूँ. ''

इमेज कॉपीरइट AP

जिस शख्स ने उन पर चप्पल फेंकी थी वह गौरक्षा दल का सदस्य बताया जाता है. कन्हैया की अपीलों के बावजूद वहां मौजूद भीड़ की उससे हाथापाई भी हुई.

गौरक्षा दल के एक कार्यकर्ता मल्लेश यादव ने बताया, ''हम क़रीब 10 लोग बैठक में गए थे. कन्हैया के कुछ बोलने पर नरेशभाई नाराज़ हो गए और उन पर चप्पल फेंक दी. पुलिस उन्हें ले गई है."

ये कार्यकर्ता दिल्ली में अफ़ज़ल गुरु पर हुए कार्यक्रम को लेकर कन्हैया का विरोध कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट AP

हालांकि कन्हैया ने कहा, ''कुछ भी कर लो हम डरने वाले नहीं हैं. एक दिन उन्हें समझ आएगा कि वो ख़ुद पर ही चप्पल उछाल रहे हैं.''

कन्हैया ने कहा, ''ऐसी बातें पहले भी हो चुकी हैं. मुझे धमकी भी मिली है. लेकिन मैं इन सब बातों से चिंतित नहीं हूँ. जैसे भगत सिंह कहा करते थे- आप एक व्यक्ति को मार सकते हैं लेकिन उसकी सोच को नहीं.''

इस बीच हैदराबाद यूनिवर्सिटी में पानी-बिजली फिर से चालू हो गया है. साथ ही कैंटीन ने भी काम करना शुरू कर दिया है.

वाइस चांसलर को हटाए जाने की मांग को लेकर छात्रों का धरना जारी है.

पीएचडी छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या के बाद वाइस चांसलर अप्पा राव 24 जनवरी को छुट्टी पर चले गए थे और उन्होंने 23 मार्च को फिर से कार्यभार संभाला है.

इसके बाद छात्रों के एक ग्रुप ने उनके कार्यालय और निवास पर तोड़फोड़ की थी. इस मामले में पुलिस ने क़रीब 25 छात्रों और दो शिक्षकों को गिरफ़्तार किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार