एनआईए को दी थी इशरत की जानकारी: हेडली

डेविड हेडली इमेज कॉपीरइट AP

पाकिस्तानी मूल के अमरीकी चरमपंथी डेविड हेडली ने मुंबई की अदालत में अमरीका से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए अपनी गवाही में शनिवार को दावा किया कि उन्होंने इशरत जहां के बारे में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को बताया था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, हेडली ने गवाही में बताया कि लश्कर ए तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी ने उन्हें इशरत जहां के ‘अभियान’ के बारे में बताया था.

हेडली ने साथ ही बताया कि उन्हें मीडिया के माध्यम से भी इशरत जहां मामले के बारे में पता चला था.

हेडली ने दावा किया कि उन्होंने एनआईए को बताया था कि भारत में एक मुठभेड़ में जो महिला सदस्य मारी गई, वह इशरत जहां थी. उन्होंने कहा कि वह नहीं जानते कि एजेंसी ने इसे रिकॉर्ड क्यों नहीं किया.

हालांकि वह एनआईए को दिए गए इस अपने बयान से पलट गए कि लखवी ने उसे बताया था कि 'इशरत जहां मॉड्यूल’ लापरवाही से अंजाम दिया गया अभियान था.

इमेज कॉपीरइट pti
Image caption इशरत जहां के परिवार ने मुठभेड़ को फ़र्ज़ी बताया था

उन्होंने कहा कि यह सिर्फ उनके विचार थे.

मुंबई हमले मामले में सरकारी गवाह बने 55 वर्षीय हेडली ने माना कि उन्हें ‘इशरत जहां के बारे में कोई निजी जानकारी नहीं थी.’

एनआईए ने जुलाई 2010 में अमेरिका में हेडली का बयान रिकॉर्ड किया था.

यह पूछे जाने पर कि क्या एनआईए ने बयान उन्हें सुनाया था, हेडली ने इसका जवाब ‘नहीं’ में दिया. उन्होंने कहा कि एजेंसी ने केवल नोट्स लिए थे.

लश्कर के सदस्य हेडली को मुंबई हमलों में शामिल होने के लिए अमेरिका ने दोषी ठहराया है. वे फिलहाल अमरीकी जेल में ही बंद हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार