हैदाराबाद यूनिवर्सिटी के छात्रों को ज़मानत

रोहित वेमुला के लिए प्रदर्शन

हैदराबाद की एक स्थानीय अदालत ने हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्रों और अध्यापकों को ज़मानत दे दी है.

22 मार्च को हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी परिसर में हुई हिंसा के बाद 25 छात्रों और दो अध्यापकों को हिरासत में लिया गया था.

सोमवार को एक स्थानीय अदालत ने इन्हें पाँच-पाँच हज़ार रुपए के मुचलकों पर ज़मानत दे दी.

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र एक दलित शोध छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या मामले में कुलपति अप्पाराव पोदिल का विरोध कर रहे हैं.

अप्पाराव क़रीब दो महीने की छुट्टियों के बाद 22 मार्च को ही दोबारा काम पर लौटे थे.

उनका विरोध कर रहे छात्रों पर अप्पाराव के आवास (जिसे दफ़्तर की तरह इस्तेमाल भी किया जाता है) में तोड़फोड़ करने का आरोप है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जवाहर लाल नेहरू यूनीवर्सिटी के छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया को हैदराबाद यूनीवर्सिटी में भाषण देने से रोका गया था.

हालांकि छात्र इन सभी आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहते हैं कि वो शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे थे.

दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या मामले में दर्ज एफ़आईआर में कुलपति अप्पाराव का भी नाम है.

छात्र उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

बीबीसी से बातचीत में अप्पाराव ने कहा था कि क़ानूनी प्रक्रिया लंबी है और वो यूनिवर्सिटी के काम पूरे करन के लिए अदालत के फ़ैसले का इंतज़ार नहीं कर सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार