'जय हिंद कहने से चलेगा या टूरिस्ट वीज़ा ही मिलेगा?'

देवेंद्र फडनवीस इमेज कॉपीरइट AP

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि जो लोग 'भारत माता की जय' नहीं कह सकते उन्हें देश में रहने का कोई हक़ नहीं.

शनिवार को नाशिक में भाजपा कार्यकर्ताओं की एक रैली में उन्होंने कहा, "भारत माता की जय कहा जाए या नहीं, इस पर अभी भी विवाद चल रहा है. जो इसका विरोध कर रहे हैं उन्हें देश में रहने का कोई अधिकार नहीं है. जो यहां रहते हैं उन्हें भारत माता की जय कहना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट sunita zade

देवेंद्र फड़नवीस के बयान पर लोगों ने सोशल मीडिया पर ख़ूब चर्चा हुई.

इसके बाद मुख्यमंत्री ने इस बयान पर अपनी सफाई दी और कहा, " 'भारत माता की जय' कहने का धर्म के साथ कोई नाता नहीं है. यदि कोई 'जय हिंद', 'जय भारत' या फिर 'जय हिंदुस्तान' कहता है तो इससे कोई समस्या नहीं है."

फड़नवीस नाशिक में इसी महीने दारुल-उलूम देवबंद के एक फ़तवे पर बोल रहे थे जिसमें कहा गया था कि देवी के रूप में भारत माता की वंदना करना ग़ैर-इस्लामी है.

इससे कुछ दिन पहले ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि किसी से 'ज़बरदस्ती भारत माता की जय न बुलवाई जाए'.

इमेज कॉपीरइट Other

इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने लिखा, "महाराष्ट्र सूखे से पीड़ित है और वहां के मुख्यमंत्री हमें स्लोगन देने के लिए कहते हैं...नाकामी से बचने के लिए देशभक्ति की शरण में.... "

इमेज कॉपीरइट Other

वरिष्ठ पत्रकार सिद्धार्थ वरदराजन लिखते हैं, "कई स्वतंत्रता सेनानियों ने 'अल्लाहू अक़बर' और 'जो बोले सो निहाल' भी कहा है. तो क्या ऐसे भारतीय जो यह नहीं कहते वे देशद्रोही हैं?"

इमेज कॉपीरइट Other

अभिनेता और कॉमेडियन वीर दास पूछते हैं, "अगर आप 'भारत माता की जय नहीं कहते' तो आप भारत में नहीं रह सकते. सोच रहा हूं क्या 'जय हिंद' कहने से चलेगा या क्या फिर आपको टूरिस्ट वीज़ा ही मिलेगा?"

इमेज कॉपीरइट Other

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंंत्री उमर अब्दुल्ला लिखते हैं, "मैं देखना चाहता हूं कि पीडीपी-भाजपा गठबंधन के सभी सदस्य कल शपथ ग्रहण करने के बाद यह कहेंगें...?"

इमेज कॉपीरइट Other

कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने लिखा है, "क्या भाजपा/आरएसएस कल पीडीपी से शपथ ग्रहण के बाद 'भारत माता की जय' कहने के लिए कहेंगे? क्या ऐसे नहीं कहने पर वे पीडीपी को भारत छोड़ने के लिए कहेंगे?"

मुख्यमंत्री के समर्थन में भी कुछ लोग आगे आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

भाजपा की नेता शाइना एनसी ने लिखा है, "दुखद है कि देवबंद के जारी किए फतवा पर सवाल करने की बजाय हम राष्ट्रवाद पर ही सवाल कर रहे हैं? हां हम सभी को बोलना चाहिए 'भारत माता की जय'."

हालाँकि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने बाद में कहा कि उन्होंने कार्यक्रम के दौरान महाराष्ट्र में सूखे के हालात पर विस्तृत बात की थी लेकिन मीडिया ने 'भारत माता की जय' वाले कथन को ही प्रमुखता दी है.

उन्होंने ये भी कहा कि 'भारत माता की जय' के नारे का किसी भी धर्म से कोई संबंध नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार