हूती विद्रोही और सऊदी नेतृत्व गठबंधन राज़ी

इमेज कॉपीरइट EPA

यमन की सरकार को सहयोग कर रहे सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन ने कहा है कि सोमवार से लागू संयुक्त राष्ट्र के युद्ध विराम को वो सम्मान देंगे.

ईरान से सहायता पा रहे हूती विद्रोही जो यमन की सरकार को अपदस्थ करने का प्रयास कर रहे हैं ने कहा कि, वे वह भी इस युद्ध विराम का सम्मान करेंगे.

एक साल से अधिक समय से चल रही इन दोनों पक्षों की लड़ाई के बीच अब तक छह हज़ार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं और 20 लाख विस्थापित चुके हैं..

इस संघर्ष को समाप्त करने के लिए नियत समझौता वार्ता इस महीने बाद में कुवैत में रखी जाएगी.

यमन में यूएन के विशेष राजदूत, इस्माइल ओल्द शेख अहमद ने, युद्ध विराम का स्वागत किया, और इसे वह "जटिल, अति महत्वपूर्ण और अति आवश्यक" बता रहे हैं.

उन्होंने कहा कि ये समझौता युद्ध कार्यों की समाप्ति के साथ ही लोकोपकारी आपूर्ति और कर्मचारियों को देश के सभी भागों में निर्बाध रूप से पहुंच की प्रतिबद्धता के लिए है.

इमेज कॉपीरइट

अहमद ने आगे कहा " यमन और अधिक जिंदगियों का नुकसान सहन नहीं कर सकता है,"

सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन ने ये कहते हुए एक बयान जारी किया " वे युद्धविराम को मानने जा रहे हैं... राष्ट्रपति अब्द रब्बू मंसूर हादी की मांग पर लेकिन किसी भी विद्रोही हमले का जवाब देने का अधिकार वह सुरक्षित रखते हैं."

हूतियों के प्रवक्ता ने कहा कि विद्रोही भी अपनी सेनाओं पर हुए किसी भी तरह के हमले का जवाब देंगे.

इस युद्ध विराम के नियत समय पर प्रभाव में आने के घंटों पहले रविवार को हुई झड़पों में 20 लोगों के मारे जाने रिपोर्ट थी.

इमेज कॉपीरइट EPA

इससे पहले यूएन प्रायोजित समझौता वार्ता प्रगति में असफल साबित हो चुकी हैं और बीते दिसंबर के युद्धविराम को बार- बार उल्लंघन के बाद हटा लिया गया.

शनिवार को, राष्ट्रपति हादी ने कहा कि वह कुवैत की बातचीत को गंभीरता से ले रहे थे.

लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा कि हूती यूएन सुरक्षा परिषद के प्रतिंबध को स्वीकार करने के लिए सहमत हो. वे कब्जे में लिए गए इलाकों से वापस जाएं और लड़ाकों को वापस बुलाए.

हूतियों को इरान से सहयोग प्राप्त हुआ और पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह का समर्थन मिला- उन्होंने इससे साल 2014 में देश की राजधानी पर अपना कब्जा जमाया और देश के अधिकांश पश्चिमी भाग को अपने नियंत्रण में ले लिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)