एनआईए अधिकारी तंज़ील मर्डर में दो गिरफ़्तार

एनआईए के अधिकारी. इमेज कॉपीरइट NIA

उत्तर प्रदेश पुलिस ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) अधिकारी तंज़ील अहमद की हत्या के मामले को सुलझा लेने का दावा किया है.

पुलिस के अनुसार आपसी दुश्मनी और पारिवारिक रंजिश के कारण उनकी हत्या की गई थी.

मंगलवार को बरेली के पुलिस आईजी विजय कुमार मीणा ने संवाददाता सम्मेलन में इसकी जानकारी दी.

उनके अनुसार मुनीर नाम के एक व्यक्ति ने तंज़ील अहमद की हत्या की थी. मुनीर के अलावा रैय्यान और ज़ैनुल भी इस साज़िश में शामिल थे.

आईजी मीना ने कहा कि कुछ दिनों पहले धामपूर में 91 लाख रुपए की लूट हुई थी और इसमें मुनीर का नाम आया था.

उन्होंने कहा कि फ़ोरेंसिक जांच में पाया गया है कि धामपूर लूट और तंज़ील की हत्या दोनों में एक ही 9 एमएम की पिस्टल का इस्तेमाल हुआ था.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस ने रैय्यान और ज़ैनुल को गिरफ़्तार कर लिया है, लेकिन मुनीर अभी भी फ़रार है.

पुलिस के अनुसार इनमें से एक रैय्यान तंज़ील का रिश्तेदार है.

पुलिस के अनुसार रैय्यान ने कई बार तंज़ील से मदद मांगी थी लेकिन तंज़ील ने उनकी मदद नहीं की.

पुलिस ने ये भी कहा कि मुनीर को इस बात का शक था कि 91 लाख रुपए की लूट मामले में तंज़ील ने ही स्थानीय पुलिस को इस बात की जानकारी दी थी कि मुनीर का इस लूट में हाथ है.

वहीं एनआईए अधिकारी तंज़ील अहमद की पत्नी फ़रज़ाना को हालात बिगड़ने के बाद एम्स के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है.

फ़रज़ाना का इलाज नोएडा के एक अस्पताल में चल रहा था.तंज़ील अहमद पर हमले के दौरान उन्हें भी गोलियां लगी थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार