'लोगों की गालियों ने बनाया मुझे'

इमेज कॉपीरइट champak lal
Image caption अभिनेत्री बिंदु अपने पति के साथ.

बॉलीवुड के 70 के दशक की जानी मानी खलनायिका बिंदु का आज जन्मदिन है. वे 66 साल की हो जाएंगी.

जन्मदिन के मौक़े पर बीबीसी से उन्होंने कटी पतंग की शबनम से लेकर ज़ंजीर की मोना डार्लिंग तक का सफ़र और कई रोचक अनुभव याद किए.

बिंदु बताती हैं कि तब थियेटर में लोग परदे पर मेरे आते ही कहने लगते थे कि लो आ गई, अभी कुछ न कुछ गड़बड़ ज़रूर करेगी.

तब मुझे जो गालियां पड़ती थीं वही मेरे लिए तारीफ़ होती थी. लोगों की गालियों ने ही मुझे बनाया.

उन्होंने एक दिलचस्प वाक़या बताया. उन्होंने कहा, ''मैं दिलीप कुमार के साथ ‘दास्तान’ फ़िल्म कर रही थी. शर्मिला टैगोर हिरोइन थीं. एक सीन था जिसमें मैं, दिलीप कुमार और शर्मिला तीनों थें. तो शर्मिला ने मुझसे मज़ाक़ में कहा, 'बिंदु, तुम ज़रा मुझसे थोड़ी दूर खड़ी रहो, वरना मैं नज़र ही नहीं आउंगी.'”

Image caption जंज़ीर फ़िल्म में अभिनेता अजित के साथ बिंदु

बिंदु ने यह भी बताया कि शुरुआत में हिरोइन बनने की बहुत कोशिश की थी. पर लोग कहते थे- काफ़ी लंबी है, गुजराती है, पता नहीं ठीक से हिंदी बोल पाएगी भी कि नहीं.

बिंदु ने कहा कि कुछ भूमिकाएं जैसे कि मदर इंडिया में नरगिस और मीना कुमारी जैसी भूमिकाएं करने की हसरत दिल में ही रह गई.

ये कहना ग़लत नहीं होगा की बॉलीवुड में बिंदु के बाद वैंप के किरदार कमज़ोर पड़ने लगें.

इसी तरह उन्होंने कटी पतंग के मशहूर गाने ‘मेरा नाम है शब्बो’ से जुड़ा एक रोचक क़िस्सा भी सुनाया.

इमेज कॉपीरइट champak lal
Image caption कटी पंतग फ़िल्म का ये गाना काफ़ी मशहूर हुआ था.

बिंदु ने बताया, "गाने में जो कपड़े पहनने थे मैंने उन्हें पहनने से मना कर दिया. मैं पहली बार कैबरे कर रही थी और मुझे वो ड्रेस काफ़ी खुली खुली लग रही थी. मेरी कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर मणि रबानी ने समझाया कि मैं इसमें स्किन के रंग का कपड़ा लगा देती हूं जो दिखने में भी अच्छा लगेगा और आपको पता भी नहीं चलेगा."

एक और बात जो उन्हें बख़ूबी याद है कि एक दूसरी फ़िल्म के गाने में उन्हें बर्फ़ पर नाचना था.

बिंदु कहती हैं कि शिमला जैसी बर्फ़ दिखाने के लिए शूटिंग की जगह पर नमक बिछाया गया था. मई का महीना था. गर्मी बहुत थी. उन पर नाचने से मेरे दोनों घुटने छिल गए. इससे स्टॉकिंग उस हिस्से पर चिपक जाते थें. दांत भींचकर मैं रात को स्टॉकिंग निकालती थी. फिर डॉक्टर आकर इंजेक्शन देते थे.

बिंदु ने अपनी मेहनत और अभिनय से साबित कर दिया कि वे केवल एक सेक्स सिम्बल ही नहीं बड़ी कलाकार भी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार