छोटा राजन की मुश्किलें बढ़ीं. दो नए केस दर्ज

छोटा राजन इमेज कॉपीरइट Reuters

गैंगस्टर छोटा राजन गैंग के ख़िलाफ़ सीबीआई ने मकोका के तहत दो नए मामले दर्ज किए हैं.

ये नए मामले कथित तौर पर जबरन वसूली और हत्या की कोशिश के हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ 2013 में बिल्डर अजय गोसालिया और अरशद शेख की हत्या की कोशिश के मामले में सीबीआई जांच कर रही है. आरोप है कि 55 साल के छोटा राजन गैंग के सदस्य इस साज़िश में शामिल थे.

आरोप है कि गोसालिया पर मलाड स्थित एक मॉल के बाहर दो शूटरों ने गोली चलाई थी, जिसमें वह बुरी तरह घायल हो गए थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मुंबई पुलिस ने तब राजन गैंग के कई सदस्यों को गिरफ़्तार किया था.

नीलेश नाम के व्यक्ति से 20 लाख रुपए जबरन वसूली के एक केस में राजन गैंग के सदस्यों के ख़िलाफ़ जांच चल रही है. इसी केस में एक अन्य अभियुक्त भारत नेपाली की अब मौत हो चुकी है.

सूत्रों के मुताबिक़ नीलेश ने जान की धमकी मिलने के बाद 20 लाख रुपए दिए थे.

सीबीआई प्रवक्ता आरके गौर ने समाचार एजेंसी पीटीआई से पुष्टि की कि महाराष्ट्र सरकार के निर्देश पर सीबीआई इन दो केसों की जांच कर रही है.

इमेज कॉपीरइट PTI

सीबीआई की एफ़आईआर में राजन का नाम नहीं है क्योंकि नियमों के तहत एजेंसी स्थानीय पुलिस की रिपोर्ट को लेती है.

जांच के बाद कोर्ट को सौंपी जाने वाली रिपोर्ट में एजेंसी संदिग्धों के नाम शामिल कर सकती है या हटा सकती है.

दोनों मामले मकोका, आईपीसी की धारा और आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज किए गए है.

इससे पहले सीबीआई ने पत्रकार जे डे की हत्या के मामले में केस दर्ज किया था जिन्हें राजन के कहने पर गोली मारने का आरोप है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस के बाद पिछले साल 25 अक्टूबर को बाली में इंडोनेशिया पुलिस ने राजन को ऑस्ट्रेलिया से आने के तुरंत बाद गिरफ़्तार किया था.

6 नवंबर 2015 को राजन को भारत निर्वासित किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार