दरकी ज़मीन तो पानी बचाने के नुस्ख़े याद आए

प्राचीन और मध्यकालीन भारत में ज़मीन के भीतर पत्थरों और मिट्टी की परतों के बीच में मौजूद पानी को निकालने और सुरक्षित रखने के कई नायाब तरीके मौज़ूद थे.

इन सभी पर नज़र डालने से पता चलता है कि उस समय लोगों का ध्यान प्रकृति के साथ तालमेल बिठाने पर था.

आइए हम बताते हैं कि कुछ ऐसे ही नायाब तरीक़ों के बारे में.

रेगिस्तान की बेरियां

इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption बाहर से कुएं की तरह दिखने वाली बेरियां ज़मीन के नीचे फंसे पानी को ऊपर तक लाने में सफल रहतीं हैं.
इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption तालाब के बीच में भी बेरियां होती हैं. तालाब के सूख जाने पर भी इन बेरियों में तीन साल तक मीठा पानी मिलता रहता है.
इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption पुराने समय में बेरियां बनाने के लिए बड़े घुमावदार पत्थरों का इस्तेमाल किया जाता था. इन पत्थरों को जोड़ने के लिए किसी भी चीज़ का इस्तेमाल नहीं किया जाता था.

केरल की सुरंगें

इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption केरल के कासरगोड ज़िले के किसान आज भी पीने के पानी के लिए प्राचीन सुरंगों पर ही निर्भर हैं. सख्त मिटटी वाली ज़मीन में खोदी गई इन सुरंगों से मीठा पानी मिलता है.
इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption ज़मीन में सुरंगों की खुदाई तब तक चलती है जब तक पानी न मिले. पानी मिलने के बाद उसे एक तालाब की तरफ़ मोड़ दिया जाता है.
इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption अगर सुरंगे लंबी होतीं हैं तो उनके ऊपर वायु संचालन के तरीके भी दिए जाते हैं.

तालपारिज, कर्नाटक

इमेज कॉपीरइट Mallikarjuna Hosapalya
Image caption तालपारिज एक पानी के टैंक का वो बिंदु होता है, जहाँ से बालू वाली मिट्टी का पानी रिस कर ऊपर आता है. इस पानी का स्रोत बारिश होती है, जो पत्थरों के बीच में जमा होता है.

कुन्डी भंडारा, बुरहानपुर, मध्य प्रदेश

इमेज कॉपीरइट India Water Portal
Image caption मुग़ल राज्य के सीमावर्ती इलाक़े में ताप्ती नदी के पानी को सुरक्षा कारणों से शहर में नहीं लाया जाता था. पानी की आपूर्ति का एक नया तरीक़ा 1615 में ईजाद किया गया. इसमें पास की सतपुड़ा पहाड़ियों के ज़रिए शहर में पीने का पानी लाया जाता था.
(सभी तस्वीरें इंडिया वॉटर पोर्टल के सौजन्य से)

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार