ओडीशा में भीषण गर्मी, दो गांव जलकर राख

ओडिशा, ढेंकनाल इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati

ओडिशा में आग लगने की अलग-अलग घटनाओं में करीब 200 घर जल गए हैं

पहली बड़ी दुर्घटना ढेंकनाल ज़िले के गन्दिया ब्लॉक के हरचुआन गांव की है जहां 50 घरों का पूरा गांव जलकर ख़ाक हो गया जबकि बौध ज़िले में 110 घर जल गए.

इसके अलावा सुबार्नपुर ज़िले के तारवा ब्लॉक के रंगारपुर गांव में आग लगने से 40 घर जल गए. ज़िला कलेक्टर के अनुसार अग्निशमन विभाग ने आग पर क़ाबू पा लिया.

प्रभावितों को प्रशासन की तरफ़ से रसोई का सामान मुफ़्त दिया जा रहा है.

अप्रैल की शुरुआत से ही ओडिशा के ज़्यादातर शहरों में तापमान 40 डिग्री से ज़्यादा रिकॉर्ड किया जा रहा है और एक जगह तो ये 48.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुँचा है.

लू के कारण राज्य में स्कूलों की छुट्टियां 15 जून तक बढ़ा दी गई हैं.

पीटीआई के अनुसार स्पेशल रिलीफ़ कमिश्नर ने बताया है कि लू लगने से अब तक 99 लोगों की मौत का दावा किया गया है जिसमें से चार मामले सही पाए गए हैं और बाक़ी की जांच हो रही है.

इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati

तीन दिन पहले भी अथग्रह के बेल्दा में आग फैलने की वजह से 50 घरों का पूरा गांव जल गया था. गांव के निवासी जीतनज्योति कहते हैं कि अब लोग पेड़ों और खुले आसमान के नीचे रह रहे हैं.

इसी गांव के निवासी केदारनाथ नायक कहते हैं कि प्रशासन केवल खाने को दे रहा है. लेकिन घर कैसे बनाएं यह सोचकर परेशान हैं. वो बताते हैं कि जब आग लगी तो वे अपने घर से एक कपड़ा भी नहीं निकाल पाए. इस आग में उनके घर में कुछ भी नहीं बचा.

माली नायक इस गांव की महिला वार्ड मेंबर हैं. नायक का घर भी इस आग में जलकर खाक हो गया. वो कहती हैं कि गांव वालों के हर सुख-दुख में मैं उन्हें आश्वासन दिया करती थी. लेकिन अब हालात देखने के बाद मैं किसी को समझाने के लिए शब्द नहीं ढूंढ़ पा रही हूं.

इमेज कॉपीरइट SUBRAT KUMAR PATI

न्यायगढ़ के रूपसी पहाड़ समेत कई जंगलों में आग फैल रही है. अग्निशमन विभाग की आग बुझाने की कोशिशें सफल होती नहीं दिख रहीं.

ओडिशा के मुख्य अग्निशमन अधिकारी सुकांत सेठी ने बीबीसी से कहा कि किसी भी वजह से आग लग जाए तो गर्मी और हवाओं के कारण यह तेज़ी से फैल जाती है. उन्होंने कहा कि जंगलों में पहुंचना मुश्किल होने के कारण आग बुझाना मुश्किल हो रहा है.

गर्मियों में वैसे भी आग फ़ैलने का ख़तरा अधिक होता है क्योंकि सूखी चीज़ों में आग के पकड़ने में अधिक समय नहीं लगता.

इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati

समाचार एजेंसी पीटीआई ने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के हवाले से कहा है कि सूबे में 45 और दमकल केंद्र खोले जाएंगे.

इसके बाद राज्य में ऐसे केंद्रों की तादाद 335 हो जाएगी.

मुख्यमंत्री ने एक कार्यक्रम में कहा है कि नए दमकल केंद्रों की स्थापना के बाद ओडिशा में पूरे मुल्क में सबसे ज़्यादा अग्निशमन केंद्र होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार