साध्वी ने कुंभ में क्यों खोदी अपनी क़ब्र?

साध्वी

एक हिंदू साध्वी ने सिंहस्थ कुंभ में अपनी क़ब्र खोदकर विरोध-प्रदर्शन किया है.

साध्वी त्रिकाल भवान्तरा और उनके महिला समर्थकों को शिप्रा नदी में स्नान करने से मना कर दिया गया था.

साध्वी त्रिकाल भवान्तरा ने पहला पूर्ण महिला अखाड़ा तैयार किया है.

भारत में 13 मान्यता प्राप्त अखाड़े हैं, लेकिन सभी के सदस्य सिर्फ़ मर्द हैं. ये सभी साध्वी भवान्तरा के अखाड़े पर सवाल खड़े करते हैं.

धार्मिक स्थलों पर लिंग के आधार पर भेदभाव भारत में एक विवादित मसला है.

मंगलवार को हुए विरोध प्रदर्शन में साध्वी भवान्तरा एक गहरा गढ्ढा खोदकर उसमें बैठ गईं और उनके समर्थक उन पर फूल और मिट्टी फेंकने लगे.

इसके बाद पुलिस पहुँच गई और उसने इस प्रदर्शन को रोक दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार