3 हेलिकॉप्टर, 6 हज़ार लोग आग बुझाने में जुटे

उत्तराखंड आग इमेज कॉपीरइट Shiv Joshi

उत्तराखंड के जंगलों में फैली आग बुझाने का काम हेलिकॉप्टरों की मदद से किया जा रहा है. यह काम सोमवार को भी जारी रहेगा.

प्रशासन के साथ वायुसेना के दो एमआई-17 और एक एएलएच हेलिकॉप्टर आग बुझाने के काम में लगाए गए हैं.

आग बुझाने में मदद के लिए और भी हेलिकॉप्टर मंगाए जा सकते हैं.

राज्य का 2269 हेक्टेयर क्षेत्र आग की चपेट में है. पिछले एक सप्ताह में आग की घटनाओं में तेज़ी से बढ़ोतरी हुई है. अब तक आग लगने की करीब 1100 घटनाएं हुई हैं.

राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में 40 मास्टर कंट्रोल रूम और 1166 अग्निशमन चालक दल स्थापित किए गए हैं. हर चालक दल में 5 से 7 कर्मचारी और अग्निशमन यंत्रों की व्यवस्था की गयी है.

इमेज कॉपीरइट spokespersonmod

स्थिति पर निगरानी रखने के लिए करीब 6 हज़ार लोग लगाए गए हैं. इनमें राष्ट्रीय आपदा रिस्पॉन्स फ़ोर्स (एनडीआरएफ़), राज्य आपदा रिस्पॉन्स फ़ोर्स (एसडीआरएफ), राज्य पुलिस, वन अधिकारी और स्वयंसेवी शामिल हैं.

वन पंचायतों को भी आग बुझाने के काम में लगाया गया है.

राज्य में आग लगने की घटनाओं का जायज़ा लेने के लिए चार सदस्यों की एक केंद्रीय टीम उत्तराखंड भेजी गई है.

विशेषज्ञों की ये टीम स्थिति का जायज़ा लेकर सप्ताह भर के भीतर गृह मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपेगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तराखंड में आग लगने की घटनाओं के बारे में गवर्नर केके पॉल से बात की और 116 राहतकर्मी और एनडीआरएफ़ की 3 टुकड़ियों को उत्तराखंड भेजा.

आग की सबसे ज़्यादा घटनाएं पौड़ी और नैनीताल ज़िलों में हुई हैं.

इमेज कॉपीरइट Shiv Joshi

आपदा प्रबंधन विभाग को जंगलों की आग की रोकथाम और आग बुझाने हेतु उपकरणों के लिए एसडीआरएफ कोष से पांच करोड़ रुपये वन पंचायतों को उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार