सुब्रत रॉय सहारा को महीने भर का पैरोल

सुब्रत रॉय इमेज कॉपीरइट AFP

सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह प्रमुख सुब्रत रॉय को चार हफ़्ते के पैरोल पर रिहा कर दिया है.

सुब्रत रॉय की मां का निधन हो गया है और अदालत ने उन्हें अंतिम संस्कार में शामिल होने की अनुमति दी है.

चीफ़ जस्टिस टी एस ठाकुर, जस्टिस ए आर दवे और जस्टिस ए के सिकरी की खंडपीठ ने कहा, ''सुब्रत रॉय ने एक अपील दायर की थी, जिसमें लखनऊ में उनकी मां के निधन के बाद पैरोल की मांग की गई थी. हमने सुब्रत रॉय को चार हफ़्तों के पैरोल पर रिहा करने का निर्देश दिया है.''

सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत रॉय के अलावा जेल में बंद सहारा समूह के एक निदेशक अशोक रॉय चौधरी को भी पैरोल दे दी है.

हालांकि अदालत ने कहा है कि सहारा प्रमुख के वकील कपिल सिबल को आश्वासन देना होगा कि सुब्रत रॉय भागने की कोशिश नहीं करेंगे.

अदालत का निर्देश है कि वकील के आश्वासन के साथ सुब्रत रॉय पुलिस की देख-रेख में रहेंगे.

सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय निवेशकों के 24 हज़ार करोड़ रूपये न चुकाने के मामले में 4 मार्च 2014 से दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद थे.

सुब्रत रॉय की 95 वर्षीय मां छबी रॉय का निधन गुरुवार सुबह हो गया था, वो काफी समय से बीमार थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार