बाग़ी विधायकों पर हाईकोर्ट का फ़ैसला 9 को

उत्तराखंड इमेज कॉपीरइट PTI

नौ बाग़ी कांग्रेसी विधायकों की सदस्यता समाप्त करने के मामले में हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है और अदालत ने अपना फ़ैसला नौ मई तक के लिए सुरक्षित रख लिया है.

अदालत, विधानसभा अध्यक्ष के उस फ़ैसले के ख़िलाफ़ सुनवाई कर रहा था जिसमें विधायतों की सदस्यता ख़त्म कर दी गई थी.

मामला हाईकोर्ट में जस्टिस यूसी ध्यानी की एकल बेंच में सुनवाई के लिए क़रीब महीने भर पहले आया था.

नैनीताल हाईकोर्ट में सुनवाई को कवर कर रहे टीवी पत्रकार वीरेंद्र बिष्ट ने बीबीसी को बताया, "सुनवाई के दौरान बाग़ी विधायको के अधिवक्ता सीए सुंदरम ने कोर्ट में दलील दी कि ये दलबदल का मामला नहीं है तो स्पीकर ने उन्हें अयोग्य कैसे ठहरा दिया."

सुंदरम ने कोर्ट में कहा कि किसी भी विधायक ने पार्टी नहीं छोड़ी है.

उन्होंने कोर्ट से, बाग़ी विधायकों को फ़्लोर टेस्ट में शामिल होने की अनुमति देने की अपील भी की.

इमेज कॉपीरइट SHIV JOSHI

बागियों के वकील की ओर से ये भी कहा गया कि उन विधायकों ने पार्टी के ख़िलाफ़ कोई काम नहीं किया था और उनकी नाराज़गी एक नेता से हो सकती है, इसका अर्थ ये नहीं कि उनकी सदस्यता समाप्त कर दी जाए.

उधर स्पीकर की ओर से वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और अमित सिब्बल ने ये कहते हुए स्पीकर के फ़ैसले का बचाव किया कि सदन में 18 मार्च को इन विधायकों का रवैया सरकार और पार्टी विरोधी ही था.

इन लोगों ने विनियोग विधेयक का भी विरोध किया.

सिब्बल का कहना था कि ये विधायक बीजेपी विधायकों के साथ बस में बैठकर राज्यपाल को ज्ञापन देने भी गए और उसके बाद चाटर्ड विमान में बीजेपी के नेताओं के साथ दिल्ली भी गए.

इमेज कॉपीरइट PTI

सुप्रीम कोर्ट ने दस मई को विधानसभा में शक्ति परीक्षण कराने का आदेश दिया है.

इस मौक़े पर पर्यवेक्षक भी तैनात रहेंगे. जो भी नतीजा आएगा उसकी घोषणा सुप्रीम कोर्ट में ही होगी.

फ्लोर टेस्ट से एक दिन पहले पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को सीबीआई ने पूछताछ के लिए दिल्ली बुलाया है.

उन पर कथित रूप से विधायकों की ख़रीद फ़रोख़्त का आरोप लगाते हुए एक सीडी जारी की गई थी.

हरीश रावत का आरोप है कि, "इससे सीबीआई की निष्पक्षता पर अंगुली उठ रही है. फ्लोर टेस्ट के बाद जब कहते तब आ जाते, कोई दिक्क़त नहीं है. बिल्कुल सहयोग करेंगे. सौ प्रतिशत सहयोग करेंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार