प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

जब कैप्टेन मुल्ला ने ली जल समाधि

1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध में यूँ तो जीत भारत की हुई थी लेकिन कम से कम एक मौका ऐसा आया था जब पाकिस्तानी नौसेना भारतीय नौसेना पर भारी पड़ी थी.

9 दिसंबर, 1971 को पाकिस्तानी पनडुब्बी पीएनएस हंगोर ने भारतीय युद्धपोत आईएनएस खुखरी को दमन के तट के पास टारपीडो फ़ायर कर डुबोया था.

खुखरी के कमांडर कैप्टेन महेंद्रनाथ मुल्ला ने नौसेना की परंपरा का निर्वाह करते हुए अपने पोत के साथ जलसमाधि ली थी जब कि वो खुद को बचा सकते थे.

उन्हें इस वीरता के लिए मरणोपराँत महावीर चक्र दिया गया था.

कैप्टेन मुल्ला की 90 वी वर्षगाँठ पर उन्हें याद कर रहे हैं रेहान फ़ज़ल आज की विवेचना में.