सचिन जैसी पारी के लिए राजनीति में आया: श्रीसंत

कोच्चि में मतदान के लिए क़तार में खड़े एस श्रीसंत.

क्रिकेट के मैदान से राजनीति के मैदान में कूदे पूर्व क्रिकेटर एस श्रीसंत केरल के तिरुवनंतपुरम सेंट्रल विधानसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार हैं.

श्रीसंत राजनीति में लंबी पारी खेलना चाहते हैं. एर्नाकुलम में वोट डालने के बाद उन्होंने बीबीसी से एक ख़ास बातचीत की.

उन्होंने कहा, ''जय माता दी, ऐसा हो जाए, जैसे सचिन पाजी ने 20-25 साल लंबी पारी क्रिकेट में खेली, वैसा ही हो जाए या उससे भी बेहतर हो जाए तो भगवान की और लोगों की कृपा होगी.''

कांग्रेस के वीएस शिवाकुमार, जो मौजूदा सरकार में स्वास्थ्य मंत्री हैं और एलडीएफ़ के एंटनी राजू से श्रीसंत को कड़ी टक्कर मिल रही है.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अब तक केरल में विधानसभा या लोकसभा चुनाव में कोई सीट नहीं जीती है.

राज्य में मुक़ाबला कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन यूडीएफ़ और वाम पार्टियों के गठबंधन एलडीएफ़ के बीच ही होता आया है.

इस चुनाव में श्रीसंत को टिकट देकर भाजपा युवा वोटरों को लुभाना चाहती है.

श्रीसंत ने विश्वास जताया कि इस बार पार्टी सिर्फ़ उनकी ही नहीं बल्कि कई और सीटों पर जीत हासिल करेगी.

उन्होंने कहा कि आने वाले सालों में केरल में बीजेपी की भी सरकार बनेगी.

इमेज कॉपीरइट Sateesh B.S.

इसी महीने पूजा भट्ट निर्मित फ़िल्म 'कैबरे' रिलीज़ हो रही है, जिसमें ऋचा चड्ढा के साथ श्रीसंत भी नज़र आएंगे.

कई टीवी रियलिटी शो में भाग ले चुके श्रीसंत की ये पहली बॉलीवुड फ़िल्म है.

चुनाव प्रचार के बीच श्रीसंत एक मलयालम फ़िल्म की शूटिंग में भी व्यस्त रहे. इसमें वो लीड रोल में हैं.

श्रीसंत ने कहा, "मेरी प्राथमिकता राजनीति ही रहेगी क्योंकि मुझे लगता है कि केरल के लोग बदलाव के हक़दार हैं. वो यहां बीजेपी ही ला सकती है."

श्रीसंत के पिता संथकुमारन वाम नेता थे. उनकी कज़िन डॉ. टीएन सीमा सीपीएम से राज्यसभा सांसद हैं.

इमेज कॉपीरइट getty

बीजेपी में शामिल होने की वजह बताते हुए श्रीसंत ने कहा, "वही एक पार्टी है, जहां परिवारवाद नहीं है, कांग्रेस जैसी पार्टियों से अलग यहां काम करने की क्षमता के बल पर अवसर दिए जाते हैं."

भारतीय क्रिकेट टीम के बेहतरीन गेंदबाज़ों में से एक श्रीसंत पर साल 2013 की इंडियन प्रीमियर लीग में स्पॉट-फ़िक्सिंग के आरोप लगने के बाद बीसीसीआई ने उनके क्रिकेट खेलने पर आजीवन पाबंदी लगा दी थी. हालांकि पिछले साल दिल्ली हाई कोर्ट ने उन्हें फ़िक्सिंग के सभी आरोपों से बरी कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार