कोहली का करिश्मा या वॉर्नर का बल्ला?

इमेज कॉपीरइट Courtesy BCCI

बेंगलुरू के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में होने वाले आईपीएल नौ के फ़ाइनल मुक़ाबले में घरेलू रॉयल चैलेंजर्स बेंगलौर और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच टक्कर है.

लेकिन नज़रें सबकी टिकी होंगी विराट कोहली और डेविड वॉर्नर पर.

विराट कोहली और डेविड वॉर्नर, दोनों अपनी टीम के आक्रामक कप्तान तो हैं ही, साथ में इन दोनों ने इस टूर्नामेंट में अपनी नैसर्गिक बल्लेबाज़ी की ऐसी छटा बिखेरी, कि बाक़ी सभी फीके पड़ गए. क्रिस गेल जैसे तूफ़ानी बल्लेबाज़ तक को अपनी बारी का इंतज़ार करना पड़ रहा है.

विराट कोहली की बात करें तो वे किस कदर बल्लेबाज़ी कर रहे हैं, इसका अंदाज़ा इससे लगाया जा सकता है कि फ़ाइनल से पहले वे चार शतक ठोक चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

आईपीएल के इतिहास में एक सीज़न में किसी बल्लेबाज़ ने इतने शतक नहीं बनाए हैं. फ़ाइनल में उनके सामने इतिहास बनाने का मौका होगा. अगर फ़ाइनल में वे 81 रन बना देते हैं तो आईपीएल के एक ही सीज़न में उनके एक हज़ार पूरे हो जाएंगे.

पहले क्वालिफ़ायर में अगर कोहली शून्य पर आउट नहीं होते तो वे इस कारनामे के बेहद करीब होते. इतना ही नहीं कोहली फ़ाइनल मैच में अगर दो छक्के लगाते हैं तो टी-20 क्रिकेट में उनके छक्कों की संख्या 200 हो जाएगी.

इस सीज़न में कोहली ने अब तक प्रति पारी 2.4 छक्के की औसत से 36 छक्के ठोके हैं. कोहली ने 15 मैचों में अब तक 150 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी की है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वहीं दूसरी ओर डेविड वॉर्नर हैं. बाएं हाथ के वॉर्नर ने दूसरे क्वालिफ़ायर मुक़ाबले में नाबाद 93 रन की पारी खेल कर टीम को अपने दम पर फ़ाइनल में पहुंचाया है. वे इस सीज़न में 16 मैचों में आठ अर्धशतक की मदद से 779 रन बना चुके हैं, उनका स्ट्राइक रेट भी 150 के आसपास है.

इतना ही नहीं, एक ख़ास पहलू और है जो वॉर्नर को ख़तरनाक बना रहा है. वे इससे पहले आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के ख़िलाफ़ अंतिम छह मैचों में अर्द्ध शतक ठोक चुके हैं. इन छह पारियों में उनका स्कोर रहा है- 61, 59, 57, नाबाद 52, 58 और 92.

वैसे यह मुक़ाबला वॉर्नर के लिए बेहद ख़ास इसलिए भी है क्योंकि आईपीएल में ये उनका 100वां मैच है. एबी डिविलियर्स, ड्वेन ब्रावो और कीरोन पोलार्ड के बाद वे इस मुकाम तक पहुंचने वाले महज चौथे विदेशी खिलाड़ी हैं.

क्रिस गेल, एबी डिविलयर्स और युवराज सिंह जैसे धुरंधरों की मौजूदगी में यह मुक़ाबला विराट बनाम वॉर्नर में भले तब्दील नहीं हो लेकिन चैंपियन कौन बनेगा, इसका नतीजा इन दोनों के खेल पर जरूर निर्भर होगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

विराट और वॉर्नर जितने आक्रामक बल्लेबाज़ हैं, उतने ही आक्रामक कप्तान भी. ख़िताबी मुकाबले से पहले भले दोनों आपस में मुस्कुराते हुए नज़र आए हों लेकिन मैदान में इनमें से कोई भी दूसरे को मौका नहीं देना चाहेगा. आख़िर पहली बार चैंपियन बनने के करीब पहुंच कर कोई कप्तान फिसलना नहीं चाहेगा और 15 करोड़ के इनामी रकम पर भी नज़रें तो होंगी ही.

दोनों टीमें इससे पहले आठ बार आमने-सामने हुई हैं, इसमें चार बार बेंगलुरू की टीम ने बाजी मारी है. जबकि तीन बार हैदराबाद की टीम ने. एक मुक़ाबला टाई रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

लेकिन सुपर ओवर में हैदराबाद की टीम ने जीत हासिल की है. ये आंकड़े बता रहे हैं कि मुक़ाबला बराबरी का है. हालांकि क्रिस गेल, एबी डिविलियर्स और विराट कोहली की मौजूदगी बेंगलुरू को ज़्यादा मज़बूत बनाती हैं.

जो भी टीम खिताब जीतेगी, वह आईपीएल में पहली बार चैंपियन बनेगी. लेकिन सनराइजर्स हैदराबाद अगर चैंपियन बनी तो हैदराबाद दो आईपीएल चैंपियन देने वाला इकलौता शहर होगा. साल 2009 में इसी शहर की डेक्कन चार्जर्स चैंपियन बनी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार