'चिदंबरम को राज्यसभा', कांग्रेस को मिला झटका

इमेज कॉपीरइट Gurudas Kamat Twitter

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी महासचिव गुरुदास कामत ने अपने सारे पदों से इस्तीफ़ा दे दिया है. यही नहीं, उन्होंने राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा भी कर दी है.

जानकारों का मानना है के महाराष्ट्र से राज्यसभा के लिए पी चिदंबरम को उम्मीदवार बनाने से वह नाराज़ थे, और यही उनके इस्तीफ़े की मुख्य वजह है.

इसे कांग्रेस पार्टी के लिए अगले साल होनेवाले मुंबई नगर निगम चुनावों के पहले एक बड़ा झटका माना जा रहा है.

कामत पिछले लगभग चार दशकों से राजनीति में सक्रिय थे.

उन्होंने अपने फैसले की घोषणा सोमवार शाम मुंबई में की और कहा कि 44 साल तक पार्टी की सेवा और राजनीति करने के बाद अब युवा नेतृत्व को आगे लाने के लिए पार्टी के सारे पद और राजनीति छोड़ने का फ़ैसला लिया है.

अपने बयान में कामत ने कहा, “पिछले कुछ महीनों से मैं इस बात पर विचारमंथन कर रहा था. चार दशकों तक सक्रिय राजनीति में रहने के बाद, अब समय आ गया है कि युवा नेतृत्व को प्रोत्साहन देने के लिए मैं रास्ता बनांऊ. इसलिए मैंने यह फ़ैसला किया है कि अब राजनीति से संन्यास लेना चाहिए.”

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption कांग्रेस के समर्थक अभी भी हैं लेकिन पार्टी सिमटती हुई बताई जा रही है.

कामत के मुताबिक़ वह 10 दिन पहले दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिले और इस्तीफ़े की पेशकश की थी. इसके बाद कामत ने दोनों नेताओं को अपना इस्तीफ़ा भेज दिया.

कामत ने कहा, “जब मेरे इस्तीफ़े के बाद पार्टी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई तो मैंने मान लिया कि इस्तीफ़ा मंज़ूर हो गया है.”

जानकारों के मुताबिक़, कामत के बयान से कि पार्टी ने उनके इस्तीफ़े पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी इस बात को और बल मिलता है कि चिदंबरम को राज्यसभा के लिए महाराष्ट्र से उम्मीदवार बनाने से राज्य के कई नेता नाराज़ हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार